Home » बिज़नेस » After the lockdown, there can be a surge in these areas, know what will be the effect on your job
 

लॉकडाउन के बाद इन क्षेत्रों में आ सकता है भारी उछाल, जानिए क्या पड़ेगा आपकी नौकरी पर असर

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 April 2020, 10:08 IST

Lockdown in India: कोरोना वायरस (Corona Virus) के प्रसार को रोकने के लिए देशभर में 21 दिनों का लॉकडाउन (Lockdown) किया गया है. इसकी अवधि 14 अप्रैल (14th April) को खत्म हो रही है. लेकिन अभी भी ये माना जा रहा है कि देशभर में कुछ शर्तों के साथ लॉकडाउन को बढ़ाया भी जा सकता है. हालांक, ओड़िशा, पंजाब, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र की सरकारों ने लॉकडाउन की अवधि 30 अप्रैल तक बढ़ा दी है. लॉकडाउन की वजह से देशभर में व्यापार, उद्योग-धंधों पर बड़ा असर पड़ा है.

अब हर किसी को इस बात की चिंता सता रही है कि आखिर लॉकडाउन के बाद उद्योग-धंधों पर क्या असर पड़ने वाला है. इसके बारे में कोई कुछ नहीं जानता. हालांकि कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद ऐसे क्षेत्र जो कि काफी कुछ लोगों की सोच और व्यवहार पर निर्भर हैं, उनमें सुधार आने में सबसे ज्यादा वक्त लग सकता है. वहीं जिन क्षेत्रों को सरकार ने कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए बंद किया है, उनमें सबसे तेजी से सुधार आने की संभावना है.


जानकारों का मानना है कि, कोरोना और लॉकडाउन के दौरान फार्मा, चिकित्सा और स्वास्थ्य उपकरण तथा डिजिटल कंपनियां में उछाल देखने को मिला है. इसे लेकर पूर्व दूरसंचार और आईटी सचिव आर चंद्रशेखर का कहना है कि डिजिटल दुनिया से जुड़ी हुईं और इससे संबंधित सेवाएं मुहैया कराने वाली कंपनियां, जैसे मनोरंजन, कार्यालय प्रणाली और रसद आपूर्ति श्रृंखला, अच्छा प्रदर्शन कर रही है और लॉकडाउन के बाद भी ये अच्छा व्यापार करेंगी.

उनका कहना है कि कुछ हद तक आवश्यक वस्तुओं की मांग में वृद्धि हुई है और इसमें फिर तेजी आएगी. वहीं उद्योग से जुड़े एक जानकार का कहना है कि परिवहन, भंडारण, वेयर हाउसिंग जैसे क्षेत्र लॉकडाउन खत्म होने के बाद तेजी से वापसी करेंगे जबकि यात्रा, होटल, विदेश यात्रा और शॉपिंग मॉल जैसे क्षेत्रों में जल्द वापसी की उम्मीद नजर नहीं आती.

इसके अलावा ई-कॉमर्स में भी तेजी देखने को मिलेगी. एक कॉर्पोरेट फर्म के वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि ई-कॉमर्स और होम डिलीवरी में आगे और तेजी देखने को मिलेगी. उनका कहना है कि, उदाहरण के लिए होटल और यात्रा क्षेत्र को वापसी में समय लगेगा. लोग बिना जरूरत की यात्रा पसंद नहीं करेंगे. वे होटलों में रुकना पसंद नहीं करेंगे. क्योंकि उन्हें इस बात की आशंका रहेगी कि उनसे पहले वहां कौन रुका होगा. इसके साथ ही पर्यटन को भी वापसी में लंबा समय लगेगा और उनकी गतिविधियों में तेजी से कमी आएगी.

आईटी सचिव आर चंद्रशेखर का कहना है कि फिलहाल लोग जोखिम लेना नहीं चाहते हैं. जो क्षेत्र मानव व्यवहार के कारण प्रभावित होते हैं, उन्हें ठीक होने में सबसे लंबा समय लगेगा. जिन पर सरकारी आदेशों से अंकुश लगा है, उनमें लॉकडाउन के बाद तुरंत उछाल आने की उम्मीद है.

चीन से भारत आ रहीं आधे घंटे में कोरोना जांच करने वाली पांच लाख किट पहुंच गईं अमेरिका

कोरोना वायरस से अमेरिका में मरने वालों की संख्या 20 हजार के पार, पांच लाख से ज्यादा संक्रमित

First published: 12 April 2020, 10:08 IST
 
अगली कहानी