Home » बिज़नेस » Aircel employees suffering from money crisis as comany not giving salary from 12 march
 

Aircel कर्मचारियों के पास नहीं हैं खाना खाने के पैसे, कंपनी से मांग रहे फूड कूपन

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 June 2018, 11:50 IST

एयरसेल कर्मचारियों को इस साल मार्च से सैलरी नहीं मिली है. इसके बावजूद कंपनी के कई स्टाफ रोज अॉफिस आते हैं. कंपनी के एक मार्केटिंग एग्जिक्युटिव ने कहना है, "हम दूसरी कंपनियों में इंटरव्यू के लिए एक दूसरे की मदद करते हैं. हम कंपनी या अंतरिम रेजॉलूशन प्रफेशनल (IRP) से मिलने वाली जानकारी भी आपस में शेयर करते हैं." उनके पास दो महीने का खर्च चलाने लायक ही पैसा बचा है. बता दें कंपनी में कुल 3,000 स्टाफ है, जिन्हे मार्च से कोई सैलरी नहीं मिली है.

ये भी पढ़ें-जितना कमाने में मुकेश अंबानी को लग गई पूरी उम्र, इस शख्स ने कमाए 5 महीने में

इकॉनोमिक्स टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार चार साल से एयरसेल में काम करने वाले इस मार्केटिंग एग्जिक्युटिव ने कहा, ‘मुझ पर तीन बच्चों के पालन-पोषण की जिम्मेदारी है. मैं जल्द अपने होमटाउन चला जाऊंगा, क्योंकि शहर में रहना मेरे लिए अब मुमकिन नहीं है.’

इसके साथ ही उनकी हालत ऐसी है कि वे मौजूदा सैलरी से 25 पर्सेंट कम के जॉब ऑफर पर भी काम करने को तैयार हैं.  हालांकि बावजूद सैलरी न मिलने के कई कर्मचारी रोज ऑफिस आते हैं. यहां आकर वे सहकर्मियों के साथ दूसरी कंपनियों में वेकंसी की जानकारी शेयर करते हैं.

ये भी पढ़ें-भारत में लांच हुआ नया इलैक्ट्रिक स्कूटर, एक बार चार्ज होने पर चलेगा 80 किलोमीटर

वहीं एयरसेल कंपनी के दिल्ली, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और पश्चिम उत्तर प्रदेश के एचआर हेड विवेक कुमार ने कहा, ‘अभी सभी सर्किल में कामकाज बंद है. कई ऑफिस भी बंद कर दिए गए हैं. एयरसेल के एंप्लॉयीज की हालत बहुत खराब है.’

 

वहीं इसके अलावा सैलरी के बारे में एयरसेल की ओर से जारी अंतिम आधिकारिक सूचना में कहा गया था कि पेरोल डिपार्टमेंट में स्टाफ की कमी से इसमें देरी हो सकती है. यह लेटर कंपनी मैनेजमेंट ने एंप्लॉयीज को 16 मई को लिखा था, इस लेटर में  लिखा था " अभी पेरोल स्टाफ की कमी है. हम कुछ हायरिंग की कोशिश कर रहे हैं. इसलिए सैलरी में देरी हो सकती है." 

ये भी पढ़ें-IPl पर जमकर पैसे लुटाना स्टार इंडिया को पड़ा भारी, 12 अरब के घाटे का अनुमान

हालात इतने बदतर है कि कर्मचारियों की मांग है कि एयरसेल उन्हें कम से कम फूड कूपन मुहैया कराए, जिससे वे खाने-पीने और दूसरे जरूरी सामान खरीद सकें. बता दें, एयरसेल पर 50,000 करोड़ रुपये का कर्ज है. वहीं इसके सॉल्यूशन के लिए कंपनी कर्ज देने वालों बैंकों की कमेटी से दो बार बातचीत कर चुकी है. 

First published: 6 June 2018, 11:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी