Home » बिज़नेस » Airtel said - be ready to spend 160 rupees 1.6 GB of data or pay that much per month
 

Airtel ने दिए डेटा की कीमतों में जबरदस्त बढ़ोतरी के संकेत, मित्तल ने कहा- 160 रुपये में 1.6 GB डेटा खर्च करें

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 August 2020, 12:33 IST

भारती एयरटेल (Airtel) के चेयरमैन सुनील भारती मित्तल (Sunil Bharti Mittal) ने सोमवार को अगले छह महीनों में मोबाइल सेवाओं की कीमतों में वृद्धि का संकेत देते हुए कहा कि कम दरों पर डेटा दूरसंचार उद्योग के लिए टिकाऊ नहीं है. मित्तल ने कीमतों में बढ़ोतरी का संकेत देते हुए कहा सब्सक्राइबर ज्यादा कीमतों के लिए तैयार रहें. उन्होंने कहा कि 160 रुपये में एक महीने के लिए 16 जीबी डेटा एक त्रासदी है.

सुनील भारती मित्तल ने कहा "आप या तो इस कीमत पर प्रति माह 1.6 GB की पाएं या आप अधिक भुगतान करने की तैयारी कर सकते हैं. उन्होंने कहा हम यूएस या यूरोप की तरह 50 से 60 डॉलर नहीं चाहते हैं, लेकिन निश्चित रूप से 2 डॉलर में 16 GB प्रति माह पर्याप्त कीमत नहीं है. इसका मतलब यह है कि 10 रुपये के बजाय 1 जीबी डेटा की कीमत 100 रुपये होनी चाहिए.


वर्तमान में एयरटेल 199 रुपये में प्रति दिन 1 जीबी डेटा 24 दिन के लिए देता है. मित्तल ने यह भी कहा कि डिजिटल सामग्री की खपत पर प्रति उपयोगकर्ता औसत राजस्व (ARPU) छह महीने में 200 के पार जाने की उम्मीद है. मित्तल ने कहा यदि आप प्रति माह 45 रुपये का भुगतान करते हैं, तो आपका बिल जल्द ही इससे अधिक 100 रुपये प्रति महीने हो सकता है. सुनील भारती मित्तल एक किताब की लॉन्चिंग पर बोल रहे थे.

कई दौर की सुनवाई और एक साल बाद सुप्रीम कोर्ट ने समायोजित सकल राजस्व (AGR) मामले पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है. सोमवार को सुनवाई के अंतिम दिन अदालत ने कहा कि यदि दूरसंचार कंपनियां अपना बकाया भुगतान करने के लिए तैयार नहीं हैं, तो वह केंद्र सरकार को स्पेक्ट्रम आवंटन और लाइसेंस को रद्द करने का निर्देश देगा. विश्लेषकों का कहना है कि AGR बकाया भुगतान करने के समय पर अदालत के फैसले से वोडाफोन आइडिया का भविष्य तय होने की उम्मीद है.

दूरसंचार कंपनियां ने AGR बकाया नहीं चुकाया तो रद्द हो सकता है स्पेक्ट्रम आवंटन और लाइसेंस - SC

First published: 25 August 2020, 11:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी