Home » बिज़नेस » Ambani's Jio University Vice-Chancellor reveals the name of
 

अंबानी की Jio यूनिवर्सिटी के कुलपति और उप कुलपति के नाम का हुआ खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 July 2018, 13:42 IST

वैज्ञानिक आरए मशेलकर जिन्हें एनडीए -2 सरकार द्वारा 2016 में "राष्ट्रीय शोध प्रोफेसर" के रूप में नियुक्त किया गया था, वह जियो यूनिवर्सिटी के कुलपति हो सकते हैं. वर्तमान में वह विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के तहत राष्ट्रीय नवाचार फाउंडेशन के प्रमुख हैं. रिलायंस फाउंडेशन के प्रस्तावित जियो यूनिवर्सिटी के कुलपति के रूप में उनका नाम सरकारी समिति में भेज दिया गया गया है.

मशेलकर के अलावा बैंकॉक में सासिन ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के पूर्व निदेशक दीपक सी जैन जियो इंस्टीट्यूट के उप कुलपति के रूप में कार्य करेंगे. मशेलकर और जैन रिलायंस इंडस्ट्रीज में बोर्ड के सदस्य हैं.

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी की अगुआई वाली रिलायंस फाउंडेशन टीम ने अपनी प्रस्तुति के दौरान आधिकारिक विशेषज्ञ समिति (ईईसी) को बताया है कि वे अगले तीन वर्षों में संस्थान स्थापित करने के लिए नेतृत्व प्रदान करेंगे. ईईसी का नेतृत्व पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त एन गोपालस्वामी कर रहे हैं.

ख़बर की मानें तो रिलायंस उद्योग समूह के निदेशकों में भी शुमार- माशेलकर और जैन अब एक कोर ग्रुप की स्थापना कर सकते हैं. यह कोर ग्रुप अगले तीन साल में जिओ यूनिवर्सिटी की स्थापना की प्रक्रिया देखेगा.

नीति आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया ने गुरुवार को मुकेश अंबानी के रिलायंस समूह द्वारा समर्थित जियो इंस्टीट्यूट का चयन प्रतिष्ठित संस्थानों में करने के सरकार के फैसले के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की. पनगढ़िया ने कहा, मोदी उन साहसी नेताओं में से एक है जिन्हें मैंने पहले कभी नहीं देखा.

उन्होंने कहा "भारत के माहौल को देखते हुए कोई भी प्रधानमंत्री किसी ऐसी चीज के बारे में घोषणा करने से पहले दो – तीन बार सोचता है, जो अभी अस्तित्व में ही नहीं आई है क्योंकि इसके बाद प्रेस का दबाव झेलना होता है. पनगढ़िया ने कहा कि यही वो चीज है जिसकी आपको जरूरत है क्योंकि किसी नए संस्थान की शुरुआत से ही आप नियम बना सकते हैं जबकि पहले से मौजूद संस्थान में बदलाव करना ज्यादा कठिन है.

ये भी पढ़ें : Jio इंस्टिट्यूट: पनगढ़िया बोले- कोई भी PM ऐसी घोषणा करने से पहले दो–तीन बार सोचता है

First published: 14 July 2018, 13:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी