Home » बिज़नेस » Amid RBI's rate cut expectations Sensex rises 800 points
 

बजट के झटके से उबरा बाजार, 800 अंक चढ़ा सेंसेक्स

अभिषेक पराशर | Updated on: 1 March 2016, 19:37 IST
QUICK PILL
  • सेंसेक्स में आई जबर्दस्त तेजी की वजह से 30 कंपनियों के बाजार पूंजीकरण में करीब 2.8 लाख करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई है. बजट के बाद आरबीआई का फैसला बाजार के लिए बड़ी उम्मीद है. 
  • बाजार में चौतरफा खरीदारी का माहौल देखने को मिला. 50 शेयरों वाले निफ्टी में 47 शेयर हरे निशान में बंद हुए जबकि जबकि तीन शेयर लाल निशान में बंद हुए. सिगरेट बनाने वाली भारत की सबसे बड़ी कंपनी आईटीसी निफ्टी का टॉप गेनर्स रहा. 

आम बजट के बाद और एशियाई बाजारों में तेजी के बीच शेयर बाजार में निवेशकों ने जमकर खरीदारी की. मंगलवार को सेंसेक्स 3.38 पर्सेंट की मजबूती के साथ 777.35 अंक मजबूत होकर 23,779.35 पर बंद हुआ. 

बजट के दिन बीएसई सेंसेक्स करीब 150 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुआ था. वहीं निफ्टी भी 235.25 अंक मजबूत होकर 7,222.30 पर बंद हुआ. बाजार की शुरुआत तेजी के साथ हुई और आखिरी घंटों में सेंसेक्स और अधिक मजबूत हुआ. बजट के बाद बाजार के लिए अगला बड़ा ट्रिगर आरबीआई का फैसला है. 

आरबीआई गवर्नर की तरफ से ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद में बाजार में जबरदस्त मजबूती आई है. इससे पहले राजन ने पिछले साल सितंबर में ब्याज दरों में कटौती की थी.

सेंसेक्स में आई जबरदस्त तेजी की वजह से 30 कंपनियों के बाजार पूंजीकरण में करीब 2.8 लाख करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई है. 

बजट के बाद आरबीआई का फैसला बाजार के लिए बड़ी उम्मीद है. ब्याज दरों में कटौती होने से न केवल बाजार में अतिरिक्त पूंजी आएगी बल्कि उपभोक्ताओं की जेब में ज्यादा पैसे भी बचेंगे.

ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद

बजट 2016-17 में सरकार की तरफ से वित्तीय घाटे को 3.5 पर्सेंट पर रखने के प्रस्ताव के बाद ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद बढ़ गई है. 

और पढ़ें: राजकोषीय घाटे को काबू में रखेगी सरकार

बैंकर्स का मानना है कि सरकार राजकोषीय घाटे को काबू करने में सफल रही है. इसलिए अब आरबीआई को भी आगे बढ़ते हुए ब्याज दरों में कटौती करनी चाहिए. इंडस्ट्री लंबे समय से आरबीआई से ब्याज दरों में कटौती करने की मांग करती रही है.

आईटीसी रहा टॉप गेनर्स

बाजार में चौतरफा खरीदारी का माहौल देखने को मिला. 50 शेयरों वाले निफ्टी में 47 शेयर हरे निशान में बंद हुए जबकि जबकि तीन शेयर लाल निशान में बंद हुए. 

सिगरेट बनाने वाली भारत की सबसे बड़ी कंपनी आईटीसी निफ्टी का टॉप गेनर्स रहा. आईटीसी 10.43 फीसदी मजबूत होकर 326.50 रुपये पर बंद हुआ. 

और पढ़ें: बजट 2016-17: कार और सिगरेट हुई महंगी

बजट के दिन सिगरेट पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ाए जाने की आशंका के बीच आईटीसी के शेयरों में गिरावट आई थी. इसके अलावा ऑटो सेक्टर में मारुति और हीरो मोटाकॉर्प जबकि बैंकिंग सेक्टर में आईसीसीआई टॉप गेनर्स रहा.

सरकार ने बजट में 10 लाख रुपये से अधिक कीमत वाली गाड़ियों पर अतिरिक्त टैक्स लगाने का प्रस्ताव रखा था जिसकी वजह से ऑटो इंडेक्स में गिरावट आई थी और सोमवार को मारुति का शेयर करीब 4 पर्सेंट से अधिक तक टूट गया था.

हालांकि मंगलवार को मारुति टॉप गेनर रहा. मारुति का शेयर 8.02 पर्सेंट मजबूत होकर 3496 रुपये पर बंद हुआ जबकि आईसीआईसीआई में जबरदस्त 8 पर्सेंट की उछाल आई और यह 205.25 रुपये पर बंद हुआ.

हरे निशान में बैंकेक्स

ब्याज दरों में कटौती किए जाने की उम्मीद के बीच बीएसई ऑटो इंडेक्स जहां 664.36 अंक चढ़कर 16516.18 पर बंद हुआ वहीं बैंकेक्स 3.54 फीसदी मजबूत होकर 559.52 अंक की मजबूती के साथ 16374.52 पर बंद हुआ.

ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर बजट में ध्यान दिए जाने की वजह से कंज्यूमर ड्यूरेबल्स इंडेक्स में करीब 500 अंकों की उछाल दर्ज की गई.

और पढ़ें: एनपीए से जूझ रहे बैंकिंग सेक्टर को 25,000 करोड़ रुपये का बेल आउट

बजट में ग्रामीण अर्थव्यवस्था और किसानों को तरजीह दिए जाने की वजह से शेयर बाजार को यह लग रहा था कि सरकार ने सुधारों की बजाए लोक लुभावन बजट को पेश किया है. 

हालांकि वित्त मंत्री की टैक्स रिफॉर्म को लेकर की गई घोषणा ने निवेशकों को बाजार में लौटने के लिए मजबूर किया. ऐसा लगता है कि बाजार ने बजट को समझने में थोड़ी जल्दबाजी दिखाई. हालांकि अब जिस तरह से निवेशकों ने बाजार में वापसी की है उसे देखकर लगता है कि बजट ने उन्हें निराश नहीं किया है. बजट के बाद उनकी अगली उम्मीद आरबीआई गवर्नर पर टिकी है.

और पढ़ें: बजट 2016-17: यह सूट-बूट नहीं, खेत खलिहान का बजट है

और पढ़ें: अच्छी खबर: घर खरीदने पर मिलेगी 50,000 रुपये की छूट

और पढ़ें: एलपीजी और पेट्रोलियम सब्सिडी पर चली सरकार की कैंची

First published: 1 March 2016, 19:37 IST
 
अभिषेक पराशर @abhishekiimc

चीफ़ सब-एडिटर, कैच हिंदी. पीटीआई, बिज़नेस स्टैंडर्ड और इकॉनॉमिक टाइम्स में काम कर चुके हैं.

पिछली कहानी
अगली कहानी