Home » बिज़नेस » Apply for Android Developer Job in Google by passing Rs. 6,500 exam
 

गूगल में एंड्रॉयड डेवलपर जॉब के लिए करें आवेदन

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2016, 14:59 IST

देश में उच्च-गुणवत्ता का टैलेंट पूल बनाने के लिए गूगल ने एक विशेष योजना बनाई है. इसके अंतर्गत अगले तीन वर्षों में वह एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म के लिए भारत के 20 लाख डेवलपरों को प्रशिक्षित करेगी. 

इतना ही नहीं गूगल ने एक रोजगार आधारित एसोसिएट एंड्रॉयड डेवलपर सर्टिफिकेशन भी लॉन्च किया है. इसमें एक पर्फामेंस आधारित परीक्षा में सफल उम्मीदवारों को एंट्री-लेवल एंड्रॉयड डेवलपर जॉब मिल सकेगी. प्रशिक्षण के बाद उम्मीदवार गूगल डेवलपर ट्रेनिंग वेबसाइट पर लॉग-इन करके यह सर्टिफिकेशन एग्जाम 6,500 रुपये में दे सकते हैं.

नौकरी के मामले में कौन है भारतीयों की पसंदीदा कंपनी?

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक भारत में फिलहाल करीब 10 लाख लोग एंड्रॉयड मोबाइल प्लेटफॉर्म के लिए सॉल्यूशंस खोज रहे हैं. अब गूगल की यह योजना भारत में 2018 तक करीब 40 लाख डेवलपर्स को पैदा कर देगी. डेवलपर्स की इतनी भारी तादाद होने पर भारत दुनिया का सर्वाधिक डेवलपर्स बेस वाला मुल्क बन जाएगा.

गूगल के प्रोडक्ट मैनेजमेंट उपाध्यक्ष सीजर सेनगुप्ता द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक,"भारत के पास दुनिया की सबसे बड़ी डेवलपर पॉपुलेशन होने की संभावना है और 2018 तक 40 लाख डेवलपर्स के साथ यह अमेरिका को पीछे कर देगा. लेकिन आज केवल 25 फीसदी डेवलपर्स ही मोबाइल के लिए काम कर रहे हैं. लक्ष्य है कि भारत को मोबाइल ऐप डेवलपमेंट का ग्लोबल लीडर बनाने में मदद की जाए."

एसोचैम सर्वे: देश के 5,500 बी-स्कूलों के एमबीए छात्र रोजगार के लायक नहीं

उन्होंने कहा, "एंड्रॉयड फंडामेंटल्स पर हम प्रशिक्षक आधारित विशेषरूप से बनाए गए प्रोग्राम को लॉन्च कर रहे हैं. यह प्रोग्राम नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनएडीसी) के केंद्रों के अलावा सार्वजनिक और निजी विश्वविद्यालयों में उपलब्ध कराया जाएगा. इन सहयोगियों के साथ मिलकर इस कैलेंडर वर्ष में इस कार्यक्रम को जारी कर दिया जाएगा."

गूगल के डेवलपर ट्रेनिंग प्रमुख पीटर लुबर्स ने कहा कि कंपनी का लक्ष्य है कि अगले तीन वर्षों में 20 लाख लोगों को प्रशिक्षित किया जाए. यह प्रशिक्षण कार्यक्रम छात्रों के साथ ही मिड-करियर डेवलपर्स के लिए उपलब्ध होगा.

दुनिया की 10 सबसे अच्छी और बुरी नौकरियां

उन्होंने कहा, "गूगल ने इसके लिए एमिटी यूनिवर्सिटी, लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जीडी गोयनका यूनिवर्सिटी और रायत बहरा यूनिवर्सिटी समेत कई अन्य शैक्षिक संस्थानों से करार किया है. जबकि एजुरेका, कोईंग, मणिपाल ग्लोबल, सिंपलीलर्न, उडासिटी और अपग्रैड जैसे प्रशिक्षण केंद्रों को भी भारत में आधिकारिक एंड्रॉयड केंद्र बनाया गया है."

उन्होंने यह भी कहा, "इसके अलावा हम प्रशिक्षकों को भी प्रशििक्षत कर रहे हैं ताकि वो छात्रों को एंड्रॉयड सर्टिफिकेशन के लिए तैयार करने वाला कोर्सवेयर अपडेट कर सकें. हमें उम्मीद है कि हम 4,000 फैकल्टी मेंबर्स को प्रशिक्षित कर देंगे."

अगले पांच सालों में आईटी सेक्टर की 14 लाख जॉब्स पर खतरा

बता दें कि गूगल का वैश्विक प्रतिद्वंदी एप्पल भी भारत में भारी निवेश करके अपने आईओएस मोबाइल प्लेटफॉर्म को बढ़ाने में जुटा है. मई में एप्पल ने घोषणा भी की थी कि वो बेंगलुरू में एक सॉफ्टवेयर लैब स्थापित कर रहा है जिससे आईओएस प्लेटफॉर्म पर काम करने वाले स्टार्टअप्स और डेवलपर्स को सहायता मिल सके.

First published: 12 July 2016, 14:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी