Home » बिज़नेस » Under tabulation 64,275 declarants and the amount they have disclosed collectively Rs. 65250 crore says Jaitley
 

अरुण जेटली: आईडीएस के तहत 65250 करोड़ रुपये की ब्लैक मनी का खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 October 2016, 15:58 IST
QUICK PILL
  • केंद्र सरकार की काला धन घोषणा योजना यानी आईडीएस के तहत 65250 करोड़ की अघोषित आय और संपत्ति का पता चला है. 
  • माना जा रहा था कि केंद्र सरकार की इस योजना के तहत 80 हजार करोड़ के काले धन का खुलासा हो सकता है.
  • वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि अंतिम आंकलन के बाद काले धन का आंकड़ा बढ़ सकता है. 
  • केंद्र सरकार को आईडीएस योजना से तकरीबन 30 हजार करोड़ रुपये के टैक्स कलेक्शन की उम्मीद है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि केंद्र सरकार की ब्लैक मनी डिक्लेरेशन स्कीम यानी आईडीएस के तहत शुक्रवार तक 65250 करोड़ की अघोषित आय और संपत्ति का पता चला है.

बताते चलें कि आय घोषणा योजना (आईडीएस) का एलान 2016-17 के आम बजट में किया गया था. योजना के तहत घोषणा करने की अंतिम अवधि 30 सितंबर थी.

इस योजना के तहत देश के भीतर काला धन रखने वाला कोई भी व्यक्ति अघोषित संपत्ति का एलान कर सकता है. जिस पर वह कर और जुर्माने सहित कुल 45 प्रतिशत टैक्स का भुगतान कर अपनी स्थिति पाक साफ कर सकता है. इससे वह परेशानी और दंडात्मक कारवाई से बच सकता है.

केंद्र सरकार की योजना के तहत 64,275 लोगों ने काले धन के बारे में जानकारी दी.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया, "एक बार जब काले धन की घोषणा से जुड़ा अंतिम आकलन हो जाएगा, उसके बाद यह आंकड़ा बढ़ सकता है. केंद्र सरकार की योजना के तहत 64,275 लोगों ने काले धन के बारे में जानकारी दी."

जेटली ने इस दौरान कहा कि टैक्स चोरी को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने कई कड़े कदम उठाए हैं. जेटली ने बताया कि एचएसबीसी लिस्ट से 8 हजार करोड़ रुपये का टैक्स आंकलन हुआ है.

30 सितंबर को खत्म हुई मियाद

इससे पहले माना जा रहा था कि इस योजना के तहत 80 हजार करोड़ काले धन का खुलासा हो सकता है. सरकार को इस योजना से 30 हजार करोड़ रुपये के टैक्स कलेक्शन की उम्मीद है. आयकर विभाग के सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि आखिरी दिन खुलासा करने वालों का तांता लग गया.

केंद्र सरकार ने काला धन का खुलासा करने के लिए 4 महीने का वक्त दिया था जो 30 सितंबर को खत्म हो गया. कहा जा रहा है हैदराबाद खुलासा करने के मामले में नंबर वन पर है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ही कह चुके हैं कि 30 सितंबर के बाद ब्लैकमनी पर वो सख्ती दिखाएंगे.

आईडीएस स्कीम को सफल बनाने के लिए केंद्र सरकार जोर-शोर से जुटी हुई थी. आईडीएस के आखिरी दिन यानी शुक्रवार को इनकम टैक्स अधिकारी सड़कों पर उतरे और लाउड स्पीकर लगाकर लोगों को इस योजना के बारे में बताया.

जगह-जगह इसके बारे में कारोबारियों को जागरूक किया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ही कह चुके हैं 30 सितंबर के बाद ब्लैकमनी पर वो सख्ती दिखाएंगे. टैक्स एक्सपर्ट ने भी इस काले धन को सफेद करने का बेहतर मौका कहा.

First published: 1 October 2016, 15:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी