Home » बिज़नेस » August wholesale inflation expands to 4-month high at 3.24% higher from 1.88 percent in July.
 

अगस्त में रिटेल के बाद में थोक महंगाई दर में भी दोगुनी बढ़ोतरी, लोगों का बज़ट बिगड़ा

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 September 2017, 13:26 IST

लोगों पर मंहगाई की मार लगातार पड़ रही है. अगस्त में महंगाई ने लोगों का बज़ट खूब बिगाड़ा. देश के थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) पर आधारित महंगाई दर अगस्त महीने में लगभग दोगुनी होकर 3.24 फीसदी पर पहुंच गई है.

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की ओर से गुरुवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, जुलाई में थोक महंगाई दर 1.88 फीसदी रही थी जबकि अगस्त 2016 में यह दर 1.09 फीसदी रही थी.

गौरतलब है कि सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय के मंगलवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक अगस्त में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) में 1 फीसदी की तेजी दर्ज की गई और यह 3.36 फीसदी रही, जबकि जुलाई में यह 2.36 फीसदी थी.

ये पांच महीनों की सबसे बड़ी बढोतरी थी. अगस्त महीने का रिटेल महंगाई दर का आंकड़ा मार्च, 2017 के बाद सबसे ऊंचा है. उस समय यह 3.89 फीसदी पर थी.

मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक मुद्रास्फीति में बढ़ोतरी का मुख्य कारण खाद्य पदार्थो जैसे सब्जियां, अनाज, दूध-आधारित उत्पाद, मांस और मछली की कीमतों में हुई बढ़ोतरी है.

साल-दर-साल आधार पर अगस्त में सब्जियों की कीमतों में 6.16 फीसदी की तथा अनाजों की कीमतों में 3.87 फीसदी की तेजी दर्ज की गई. वहीं, मांस-मछली की कीमत में 2.94 फीसदी की तेजी दर्ज की गई. गैर-खाद्य पदार्थो में ईधन और बिजली के खंड में महंगाई दर बढ़कर 4.94 फीसदी दर्ज की गई.

First published: 14 September 2017, 13:26 IST
 
अगली कहानी