Home » बिज़नेस » Australian court quashed an indigenous group’s bid to block Indian resource conglomerate Adani Enterprises Ltd
 

गौतम अडानी को कोलमाइन प्रोजेक्ट मामले में ऑस्ट्रेलिया की अदालत ने दी बड़ी राहत

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 August 2018, 15:56 IST

भारतीय उद्योगपति गौतम अडानी को ऑस्ट्रेलिया ने अपने कोलमाइन प्रोजेक्ट के लिए लगातार मुश्किलों का सामना करना पड़ा है. हालांकि इस बार एक ऑस्ट्रेलियाई अदालत ने अडानी को बड़ी राहत दी है. शुक्रवार को ऑस्ट्रेलियाई अदालत ने उनके विवादास्पद कामाइल कोयला खदान को रोकने के लिए डाली गई याचिका को रद्द कर दिया.

अदालत के इस फैसले के बाद गौतम अडानी को एक और कानूनी झंझट से राहत मिल गई. कंपनी अभी भी खदान के पहले चरण में 4 बिलियन डॉलर के लिए वित्त पोषण हासिल करने की कोशिश कर रही है. कंपनी का कहना है कि इस फैसले के बाद उनकी कारमाइकल कोलमाइन की राह का एक रोड़ा ख़त्म हो गया है.

 

इससे पहले अडानी के प्रोजेक्ट को कई पर्यावरण समूहों ने चुनौती दी थी, जिस कारण इस प्रोजेक्ट को देरी का सामना करना पड़ा था. कई बैंकों ने भी इसकी फंडिंग से किनारा कर दिया था. पर्यावरण से जुड़े लोगों का तर्क है कि इस खदान से ग्लोबल वार्मिंग बढ़ेगा और ग्रेट बैरियर रीफ को भी नुकसान पहुंचाएगा.

इसे कई स्वदेशी समूहों के सदस्यों ने ऑस्ट्रेलिया के संघीय न्यायालय में भी चुनौती दी थी. जिन्होंने तर्क दिया कि कंपनी ने खान के लिए स्वदेशी अनुमति पर उचित तरीके से बातचीत नहीं की है और उनकी राय भी नहीं ली गई थी.

यह परियोजना रिमोट गैलील बेसिन में स्थित है, जो केंद्रीय आउटबैक में 2,47,000 वर्ग किलोमीटर (9 5,000 वर्ग मील) में है. अडानी ग्रुप का मानना है कि इसमें ऑस्ट्रेलिया के सबसे बड़े कोयला उत्पादक क्षेत्र बनने की क्षमता है.
अदानी लप परियोजना के पहले चरण में मार्च 2020 तक कारमाइल से कोयले को शिपिंग शुरू करने की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें : Amazon के चीफ ने अपनी टीम को दी सलाह- रात में काम करना करें बंद

First published: 18 August 2018, 15:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी