Home » बिज़नेस » An electric vehicle and two wheels of change, Hero Motocorp
 

Auto Expo 2018: भारत में परिवर्तन के पहियों पर इलेक्ट्रिक दो-पहिया वाहन

सुनील रावत | Updated on: 13 February 2018, 17:32 IST

ऑटो एक्सपो 2018 में हीरो मोटोकॉर्प के पवेलियन में स्थित एक बाइक लोगों को खूब आकर्षित कर रही है. यह बाइक है हीरो की एक्सपल्स 200, यहां सबकुछ ठीक दीखता है लेकिन सिवाय इसके कि हीरो दुनिया की सबसे बड़ी बाइक निर्माता कंपनी है और इसके पास एक भी इलेक्ट्रिक वाहन नहीं है. यहां तक कि इसको लेकर कंपनी के पास कोई कांसेप्ट भी नहीं है. वह भी ऐसे समय में जब इलेक्ट्रिक वाहन (ईवीएस) सस्ते हो रहे हैं और पेट्रोल-चालित वाहनों के विकल्प के तौर पर उभर रहे हैं.

मिंट की रिपोर्ट के अनुसार -कहा जा रहा है कि लिथियम आयन (ली-आयन) बैटरी की कीमतों में गिरावट आने पर इलेक्ट्रिक वाहनों की संख्या और बढ़ सकती है. हालांकि हीरो मोटोकॉर्प के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक पवन मुंजाल कहते हैं "मीडिया को चार पहिया वाहनों के बारे में अधिक लिखता है यह सामान्य प्रवृत्ति है, हालांकि भारत में गतिशीलता का बड़ा हिस्सा दोपहिया वाहन हैं.''

 

भारत में वर्ष 2016-17 में 44,000 इलेक्ट्रिक दुपहिया वाहन बिके जो पिछले वर्ष के मुकाबले ज्यादा था. मुंजाल हीरो मोटोकॉर्प को एक कम्यूटर बाइक निर्माता होने की बजाय परिवहन प्रौद्योगिकी कंपनी में बनाना चाहते है. हीरो ने 200 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश एक स्टार्टअप में किया है. जो कि बेंगलुरू से एक इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर की शुरूआत है.

मई 2017 की नीति आयोग की रिपोर्ट में उल्लेख किया गया कि दो-पहिया वाहन को इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को तेजी से अपनाना होगा. कंसल्टिंग फर्म केपीएमजी से पता चलता है कि इलेक्ट्रिक दुपहिया वाहनों को अपनाने में बसों और कारों से ज्यादा तेजी रहेगी.

इंडस्ट्री ग्रुप ऑटोमोटिव कंपोनेंट मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एक्मा) और सलाहकार रोलैंड बर्गर के मुताबिक, भारत में 44,000 इलेक्ट्रिक दुपहिया वाहनों की बिक्री 2016-17 में हुई. जो कि पिछले वर्ष की तुलना में दोगुने से भी ज्यादा थी.

First published: 13 February 2018, 17:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी