Home » बिज़नेस » Auto Parts Maker jamna motors Braces for Plant Shutdowns
 

ऑटो सेक्टर के बुरे हाल : देश का सबसे बड़ा ऑटो पार्ट्स निर्माता बंद कर सकती है अपने प्लांट

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2019, 22:35 IST

ऑटो सेक्टर बड़ी मंदी के दौर से गुजर रहा है. अब मंदी के चलते होमग्रोन ऑटोमोटिव मल्टीनेशनल जमना ऑटो इंडस्ट्रीज (JAI) इस महीने अपने सभी संयंत्रों को बंद करने की योजना बना रही है. ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार जमना ऑटो इंडस्ट्रीज (JAI) दुनियाभर में तीसरा सबसे बड़ा सस्पेंशन स्प्रिंग निर्माता है. रिपोर्ट के अनुसार  यह कंपनी की बिक्री में एक दशक की सबसे बड़ी गिरावट है. JIA के ग्राहकों में जनरल मोटर्स कंपनी, टोयोटा मोटर कॉर्प, टाटा मोटर्स और महिंद्रा शामिल हैं.

इक्विपमेंट मैनुफैक्टरिंग ने कम्पनी की डोमेस्टिक मार्केट में 70 फीसदी की हिस्सेदरी है. कंपनी के ग्राहकों में महिंद्रा एंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स शामिल हैं. हालांकि जमाना मोटर्स ऐसी एक मात्र कंपनी नहीं है जिस पर मंदी का साया मंडरा रहा है. ऑटो पार्ट्स निर्माता ने यह भी घोषणा की कि वह अगस्त में सीधे 13 दिनों के लिए अपनी दो उत्पादन इकाइयों में परिचालन बंद कर देगी. 

महिंद्रा बंद करेगी उत्पादन

देश के सबसे बड़ी यूटिलिटी वाहन निर्माता महिंद्रा एंड महिंद्रा (M & M) और इसकी सहायक कंपनी  Mahindra Vehicle Manufacturing Limited (MVML) ने BSE को सूचित किया है कि वह Q2FY20 में अपने सभी प्लांटों में 8 से 14 दिनों के लिए उत्पादन बंद कर सकता है. कंपनी बिक्री में आयी गिरावट की मार को झेल रही है. कंपनी यह कदम डीलरों पास जमा गाड़ियों के स्टॉक को नियंत्रित  करने के लिए उठा रही है. कंपनी ने जुलाई में यात्री कार और वाणिज्यिक वाहन व्हेललेस में क्रमशः 15% और 16% वर्ष-दर-वर्ष की गिरावट देखी.

अंतरराष्ट्रीय न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि बीते चार महीनों में लगभग 350,000 नौकरियां का चुकी हैं. रिपोर्ट के अनुसार कार और मोटरसाइकिल निर्माताओं ने 15,000 नौकरियों को कम किया है जबकि ऑटो पार्ट्स निर्माताओं ने 100,000 लोगों को नौकरियों से निकाला है. देश भर में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से ऑटो सेक्टर में लगभग 3 करोड़ 20 लाख लोगों का रोजगार टिका हुआ है.

पिछले नौ महीनों में गाड़ियों की बिक्री में बड़ी गिरावट आयी है, जिस कारण डीलरशिप लगातार बंद हो रही है. मारुति सुजुकी, बजाज, निसान टाटा ने उत्पादन में कटौती की है. इसी कड़ी में मारुति ने 1000 अस्थाई वर्करों को नौकरी निकल दिया. कंपनी ने हायरिंग रोक दी है. कंपनी की कुल बिक्री में 33 फीसदी की गिरावट आयी है. कर्मचारी सिंगल शिफ्ट में काम कर रहे हैं.

सरकार को डरा रही है बड़ी आर्थिक मंदी, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों को मनाएंगी वित्त मंत्री

First published: 9 August 2019, 16:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी