Home » बिज़नेस » Baba Ramdev was also open to setup a unit of Patanjali in Pakistan: talks openly on Uri Attack, Ban on Pakistan artists, Surgical strike, PM Modi
 

पाकिस्तान में पतंजलि की इकाई खोल सकते हैं बाबा रामदेव

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 October 2016, 14:35 IST

योग के बाद पतंजलि के उत्पादों से देश-विदेश में जमकर नाम कमा चुके बाबा रामदेव पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में अपने पतंजलि ब्रांड की इकाई खोल सकते हैं. बाबा रामदेव ने कहा कि वो इस इकाई से होने वाले मुनाफे को पाकिस्तान में ही लोगों के उद्धार में लगा देंगे, न कि पाकिस्तानी कलाकारों की तरह जो भारत से कमाई करके अपने देश ले जाते हैं.

बाबा रामदेव ने यह बात इंडियन एक्सप्रेस से की गई बातचीत में कही. चीन के सामान का विरोध करने की बात पर रामदेव ने कहा कि चीन भारत से मुनाफा कमाकर पाकिस्तान की मदद करता है. उन्होंने चीन सामान का इस्तेमाल न करने की बात इसलिए कही है क्योंकि यह न्यायोचित है और इसका मकसद चीन की सरकार पर सामाजिक-आर्थिक दवाब डालना है.

बाबा रामदेव बने देश के सबसे बड़े विज्ञापनदाता 

मनसे द्वारा ऐ दिल है मुश्किल जैसी फिल्मों में पाकिस्तानी कलाकारों के विरोध की बात संबंधी सवाल के जवाब में बाबा रामदेव ने कहा कि कलाकार आतंकवादी नहीं होते. लेकिन क्या इन लोगों की आत्मा होती है? इनका मकसद केवल इनकी फिल्में ही होती हैं, जिनसे ये करोड़ों कमाकर बिरयानी खाते हैं. ये लोग उरी या अन्य कहीं होने वाली भारतीयों की निर्मम हत्या का विरोध क्यों नहीं करते?

उन्होंने आगे कहा कि योग एक कला है और वे पाकिस्तान में योग शिविर के आयोजन के विचार को लेकर सकारात्मक रुख रखते हैं. साथ ही वे पाकिस्तान में पतंजलि की एक इकाई भी खोलना चाहते हैं और पाकिस्तानी कलाकारों से अलग वो वहां होने वाले मुनाफे को लेकर नहीं आएंगे. बल्कि वे पाकिस्तान में होने वाले मुनाफे को ववहीं के लोगों के उत्थान के कामों में लगाएंगे.

मिलिए अटरली-बटरली अमूल गर्ल के पापा से

हालिया सर्जिकल स्ट्राइक के संबंध में सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "बुराई को उखाड़ना हिंसा नहीं होती. मुझे लगता है कि मोदीजी दाऊद इब्राहिम, मसूद अजहर और हाफिज सईद को भी समाप्त कर देंगे, ताकि इस देश के लोग काले धन और गरीबी हटाओ के संबंध में उनसे किसी भी मनमुटाव को दूर कर सकें... मैंने मोदीजी को ट्वीट भी किया था कि उन्हें बुद्ध और युद्ध की साथ-साथ बात करनी चाहिए. क्रांति के बगैर शांति कभी संभव नहीं है."

First published: 20 October 2016, 14:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी