Home » बिज़नेस » bank is going to charge you money in deposit money and depositing, banking service, Change of mobile number, KYC, address change, net banki
 

बैंकों ने ग्राहकों को दिया बड़ा झटका, 20 जनवरी से लगेंगे कई चार्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 January 2018, 16:10 IST

एनपीए के बोझ तले बैंक अपनी कमाई को बढ़ाने के लिए रोज अपने नियमों में बदलाव कर अपने ग्राहकों से तरह-तरह के शुल्क वसूल रहे हैं. एक रिपोर्ट की माने तो 20 जनवरी से बैंक ग्राहकों पर एक और चार्ज लगाने की तैयारी में हैं.

बैंक अब पैसा निकालने, जमा करने, मोबाइल नंबर बदलवाने, केवाईसी, पता बदलवाने, नेट बैंकिंग और चेकबुक क लिए आवेदन करने जैसी सुविधाएं देने के बदले आपसे पैसे वसूल सकते है.

बैंक की उस शाखा में जहाँ आपका खाता है, के अलावा अगर आप दूसरी शाखाओं में इन सुविधाओं के लिए जाते हैं तो आप पर ये चार्ज लगाए जा सकते हैं. शुल्क पर 18 फीसदी जीएसटी भी लगेगा. यह शुल्क आपके खाते से काट लिया जाएगा.

मिड डे की रिपोर्ट की माने तो अधिकारियों का कहना है कि इसके लिए अंतरिम आदेश दिए जा चुके हैं. हालाँकि बैंकरों ने इस कदम को सही बताया है. उनका कहना है कि खाताधारक अगर अपनी होम ब्रांच के अतिरिक्त किसी अन्य ब्रांच से बैंकिंग सेवाएं लेता है तो शुल्क लगना चाहिए.

ऑनलाइन बैंकिंग मिलेगा बढावा

एक अन्य अधिकारी ने कहा, "इस कदम से ऑनलाइन बैंकिंग को बढ़ावा मिलेगा. समय के साथ-साथ चेक और डिमांड ड्राफ्ट भी अप्रासंगिक हो जाएंगे." एटीएम और कियोस्क मशीनों से पासबुक अपडेशन और पैसों का लेनदेन अब भी निशुल्क किया जा सकेगा.

मिनिमम बैलेंस पर एसबीआई ने वसूले 1,771 करोड़

इससे पहले भी बैंक अपने ग्राहकों पर कई तरह के शुल्क लगा चुके हैं. हालही वित्त मंत्रालय की ओर से जारी में रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2017 के दौरान एसबीआई ने अपने ग्राहकों से मिनिमम अकाउंट बैलेंस नहीं रखने के एवज में 1,771 करोड़ रुपये वसूले हैं.

बैंकों का एनपीए हुआ 10,000 अरब

आरबीआई के आंकड़ों की माने तो वित्त वर्ष 2017-18 की पहली छमाही में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों द्वारा 53,625 करोड़ रुपये की राशि को बट्टे खाते में डाला गया. उल्लेखनीय है कि सितंबर तिमाही तक नॉन परफॉर्मिंग एसेट (एनपीए) बढ़कर 10,000 अरब रुपये हो गया है. यह राशि बैंक के कुल कर्ज के 10 प्रतिशत से भी ज्यादा है.

First published: 8 January 2018, 16:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी