Home » बिज़नेस » Bank May Charge for ATM Transaction Cheques and Cards
 

बैंक अब इन फ्री सेवाएं के लिए भी वसूलेगा चार्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 April 2018, 15:56 IST

जल्द ही बैंक अपनी फ्री सेवाओं पर भी आपसे शुल्क वसूलने जा रहे हैं. इनमें एटीएम से पैसों के लेनदेन और चेकबुक ट्रांजैक्‍शंस से लेकर कार्ड्स से पेमेंट और मनी ट्रांसफर जैसी सर्विस महंगी हो सकती हैं. बता दें कि बैंक अभी मिनिमम बैलेंस नहीं रखने पर आपसे चार्ज वसूलते हैं. लेकिन, अब मिनिमम बैलेंस रखने पर भी आपसे चार्ज वसूला जा सकता है. इसके साथ ही एटीएम से ट्रांजैक्शन, फ्यूल सरचार्ज रिफंड, डेबिट कार्ड आदि की फ्री सेवाएं भी फ्री नहीं मिल पाएंगी.

दरअसल, टैक्स डिपार्टमेंट ने देश के बड़े बैंकों से ग्राहकों को दी जाने वाली मुफ्त सेवाओं पर टैक्स चुकाने को कहा है. इन बैंकों में एसबीआई, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक और कोटक महिंद्रा जैसे बड़े बैंक शामिल हैं. टैक्स डिपार्टमेंट ने टैक्स पिछली तारीख से मांगा है, जो हजारों करोड़ रुपए का हो सकता है. इसके बाद बैंक अपने ग्राहकों से फ्री सेवाओं के लिए भी शुल्क वसूलना शुरु कर सकते हैं.

डायरेक्टरेट जनरल ऑफ गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स इंटेलिजेंस ने इन सभी बैंकों को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए इस मामले में टैक्‍स जमा करने को कहा है. खबर यह भी है कि यह नोटिस दूसरे बैंकों को भी भेजा जा सकता है. इकोनॉमिक टाइम्‍स की एक रिपोर्ट में एक बड़े टैक्स अधिकारी का हवाला देता रहा है कि बैंकों से पिछले पांच साल के लिए टैक्स भुगतान की मांग की गई है. मिनिमम अकाउंट बैलेंस मेनटेन नहीं करने वाले ग्राहकों से बैंकों ने जो पैसे वसूले हैं, टैक्स की गणना उसी के आधार पर की जा रही है.

खबर के मुताबिक सरकार के इस फैसले से बैंक चिंतित हैं. क्योंकि दिक्‍कत यह है कि वे पिछली तारीख से ग्राहकों से टैक्स की मांग नहीं कर सकते. ऐसे में इसका बोझ ग्राहकों को भी उठाना पड़ सकता है. हालांकि बैंक टैक्‍स विभाग के दावे को चुनौती दे सकते हैं. वे सरकार से भी इस मामले में अपील कर सकते हैं. इस मद में बैंकों पर कुल टैक्स लायबिलिटी 6,000 करोड़ रुपये से भी अधिक हो सकती है. इससे पहले से परेशान बैंकों का सरदर्द और बढ़ गया है.

बता दें कि डीजीजीएसटी की नजर बैंकों की तरफ से ग्राहकों को दी जाने वाली छूट पर भी है. ऐसी सेवाएं जिनके लिए बैंक कुछ शुल्क वसूलते हैं. मिनिमम बैलेंस मेनटेन करने पर फ्री सेवाओं की भी पड़ताल हो सकती है. जिन सेवाओं पर शुल्क वसूला जाता है उनमें तय सीमा से अधिक एटीएम ट्रांजैक्शंस, फ्यूल सरचार्ज रिफंड, चेक बुक इशू करने, डेबिट कार्ड आदि शामिल हैं. हालांकि, प्रिविलेज्ड कस्टमर्स से मिनिमम बैलेंस मेनटेन करने पर चार्ज नहीं लिया जाता.

ये भी पढ़ें- AirAsia का शानदार ऑफर, मात्र 1,399 रुपये में करें इन शहरों का हवाई सफर

First published: 24 April 2018, 15:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी