Home » बिज़नेस » Battle of Amazon and Wal-Mart in India, Flipkart close to sealing $ 12-bn deal with Walmart
 

200 अरब डॉलर के भारतीय बाजार पर कब्जे को लेकर दो अमेरिकी कंपनियों में छिड़ी जंग

सुनील रावत | Updated on: 23 April 2018, 18:16 IST

दिग्गज अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट इंक कम से कम 12 बिलियन डॉलर में भारत की अग्रणी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट में हिस्सेदारी खरीदने के सौदे को अगले दो हफ्तों में अंतिम रूप दे सकती है. फ्लिपकार्ट ऑनलाइन सर्विसेज प्राइवेट में सभी प्रमुख निवेशक अब अमेज़ॅन डॉट कॉम अधिग्रहण पर छिड़ी चर्चा के बाद वॉलमार्ट में शामिल हो जायेंगे.

टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट फ्लिपकार्ट में लगभग 20 फीसदी हिस्सेदारी बेच देगा, जबकि सॉफ्टबैंक ग्रुप कार्पोरेशन 20 फीसदी से ज्यादा होल्डिंग का एक बड़ा हिस्सा ऑफलोड करेगा. हालांकि अभी यह तय नहीं है कि फ्लिपकार्ट के संस्थापक इस सौदे के बाद कारोबार का नेतृत्व करेंगे या नहीं. मॉर्गन स्टैनली का कहना है इससे भारत का ई-कॉमर्स मार्केट आने वाले 10 सालों में लगभग 200 अरब डॉलर का हो जायेगा.

वॉलमार्ट द्वारा हिस्सा खरीदने के बाद फ्लिपकार्ट के प्रमुख निवेशकों में शामिल यूएस हेड फंज टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट, साउथ अफ्रीकी टेक निवेशक नास्पर्स और वेंचर कैपिटल फर्म एक्सेल की पूरी तरह छुट्टी हो जाएगी.

फ्लिपकार्ट के संस्थापक सचिन बंसल और बिन्नी बंसल भी अपनी कुछ हिस्सेदारी बेचेंगे. ऐमजॉन के कर्मचारी रहे दोनों पूर्व आईआईटी छात्रों ने साल 2007 में फ्लिपकार्ट की शुरुआत की थी.

अगर वॉलमार्ट इस सौदे में सफल हो जाता है तो वह भारत के 1.3 बिलियन लोगों के उभरते बाजार पर कब्ज़ा लेगा. गौरतलब है कि Bentonville Arkansas स्थित कंपनी दुनिया की सबसे बड़ा खुदरा विक्रेता है, लेकिन यह अमेज़ॅन के खिलाफ लगातार संघर्ष कर रही है. माना जा रहा है कि इन दो भारतीय कंपनियों  की जंग अब भारत में भी देखने को मिलेगी.

दूसरी ओर अमेरिका के बाद चीन भी भारत के ई- कॉमर्स बाजर में सेंध लगाना चाहता है. चीन का अलीबाबा ग्रुप भारत में लगातार अपने पांव पसार रहा है. भारत में अमेज़ॅन दूसरे सबसे बड़े ई-कॉमर्स प्लेयर और फ्लिपकार्ट का बड़ा प्रतिद्वंद्वी है.

फ्लिपकार्ट के संस्थापक सचिन और बिन्नी बंसल ने वॉलमार्ट के पक्ष में हैं. वहीं अमेरिकी खुदरा विक्रेता वालमार्ट पिछले साल से भारतीय कंपनी की तलाश कर रहा है. अमेज़ॅन पहले ही भारत में अपना विस्तार कर चुका है. जबकि चीन में अपनी स्थिति कमजोर होने के बाद अमेज़ॉन के संस्थापक जेफ बेजोस भारत में अपना कब्ज़ा जमाना चाहते हैं.

अमेज़ॅन भारत में तेजी से फ्लिपकार्ट की जमीन पर कब्ज़ा कर रहा है इसलिए माना जा रहा है कि वॉलमार्ट डील के बाद फ्लिपकार्ट को मजबूत करेगी. 

 ये भी पढ़ें : इस दिग्गज रियल एस्टेट टाइकून ने भी छोड़ा देश, ली टैक्स हेवन देश की नागरिकता

First published: 23 April 2018, 17:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी