Home » बिज़नेस » Beware before transacting in Banks as from 1st March they starts charging for deposties- withdrwal & ATM charges as well, cash limit also im
 

सावधानः बैंकों में जमा-निकासी से पहले दें ध्यान, कहीं देना न पड़ जाए ज्यादा पैसा

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 March 2017, 14:32 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले के बाद डिजिटल ट्रांजैक्शंस और कैशलेस इकोनॉमी को बढ़ावा देने के उद्देश्य से बैंकिंग सेक्टर के शुल्क में 1 मार्च से बहुत बड़े बदलाव कर दिए गए हैं. अब बैंकों द्वारा ब्याज देने से ज्यादा ग्राहकों से शुल्क वसूलने का सिलसिला शुरू हो गया है. आम हो या खास, हर आदमी इसकी जद में है. ऐसे में अगर आप भी बैंक जाने वाले हैं तो पहले यह खबर जरूर पढ़ लें.

दरअसल नोटबंदी के बाद नगदी का कम से कम इस्तेमाल किया जाए ऐसी व्यवस्थाएं की जा रही हैं. बैंक नगदी निकालने और जमा करने की सबसे प्रमुख जगह होती हैं. इसलिए सरकार ने नए नियम बना दिए हैं जिनके अंतर्गत लोगों को अब बैंकों में पहले की तरह जमा और निकासी करने की छूट नहीं मिल सकेगी. एक सीमा से ज्यादा लेनदेन करने या नगदी जमा करने पर बैंकों द्वारा ग्राहकों से शुल्क वसूला जाएगा.

बैंकों द्वारा शुल्क वसूली का सिलसिला 1 मार्च 2017 से शुरू कर दिया गया है. हालांकि यह नियम सेविंग्स और सैलरी (यानी बचत खाते और तनख्वाह खाते) अकाउंट्स पर ही लगाया गया है. इनमें निजी बैंकों द्वारा यह नियम लागू करने का फैसला शामिल हैं. आइए आपको बताते हैं कि इस फैसले के बाद एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और एक्सिस बैंक जैसी निजी बैंकों और एटीएम सेवा शुल्क में क्या बदलाव किए गए हैं.

 

एचडीएफसी बैंक द्वारा लगाए जाने वाले शुल्क की जानकारी.

एक्सिस बैंक
बचत खाते के ग्राहकों को हर माह 1 लाख रुपये से ज्यादा की राशि जमा करने पर या फिर पांचवी निकासी से 150 रुपये या फिर 5 रुपये प्रति हजार रुपये का शुल्क देना पड़ेगा.

आईसीआईसीआई बैंक
खाताधारकों को बैंक की होम ब्रांच में एक माह में चार बार से ज्यादा नगद लेनदेन (जमा या निकासी) पर न्यूनतम 150 रुपये का शुल्क देना होगा. इसके अलावा प्रतिमाह लेनदेन की सीमा 1 लाख रुपये रखी गई है.

एचडीएफसी बैंक
ऊपर दोनों बैंकों की ही तरह बैंकों में जाकर चार लेनदेन तक कोई शुल्क नहीं देना होगा और पांचवें लेनदेन से हर बार 150 रुपये के साथ सर्विस टैक्स देना होगा.

ग्राहक अपनी होम ब्रांच से हर माह अपने खाते से 2 लाख रुपये तक की रकम निकाल सकते हैं. इसके बाद प्रति हजार रुपये 5 रुपये या अधिकतम 150 रुपये का सेवा शुल्क देना होगा.

होम ब्रांच के अलावा अन्य किसी ब्रांच से रोजाना 25 हजार रुपये तक का लेनदेन मुफ्त होगा. हालांकि वरिष्ठ नागरिकों और बच्चों के खातों पर कोई शुल्क नहीं देना होगा.

एटीएम शुल्क
नोटबंदी के बाद दूसरे एटीएम के इस्तेमाल पर लगने वाले शुल्क को माफ कर दिया गया था लेकिन अब फिर से इसे लागू कर दिया गया है.

अब ग्राहकों को एक माह में दिल्ली-एनसीआर, मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद और बेंगलुरु में दूसरी बैंकों के एटीएम तीन बार जबकि अन्य शहरों में पांच बार मुफ्त इस्तेमाल करने की छूट होगी. इसके बाद 20 रुपये प्रति लेनदेन का शुल्क देेना होगा.

First published: 1 March 2017, 14:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी