Home » बिज़नेस » BJP receives 700 crores from check and online payment in FY 2018-19
 

बीजेपी को वित्त वर्ष 2018-19 में चेक और ऑनलाइन पेमेंट से मिला 700 करोड़ का चंदा

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 November 2019, 10:34 IST

भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को कहा कि उसे 2018-19 के वित्तीय वर्ष में चेक और ऑनलाइन भुगतान के माध्यम से 700 करोड़ रुपये का डोनेशन  प्राप्त हुआ है. पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार बीजेपी ने चुनाव आयोग को बताया कि टाटा-प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट ने उसे डोनेशन में 356 करोड़ रुपये दिए जबकि प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट ने बीजेपी को 54.25 करोड़ रुपये का डोनेशन दिया.

प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट भारती ग्रुप, हीरो मोटोकॉर्प, जुबिलेंट फूडवर्क्स, ओरिएंट सीमेंट, डीएलएफ, जेके टायर्स और कई अन्य कॉर्पोरेट घरानों द्वारा समर्थित है. भाजपा ने चुनाव आयोग को बताया कि उसने 20,000 रुपये या उससे अधिक के दान से संबंधित जानकारी चेक या ऑनलाइन भुगतान के माध्यम से प्राप्त की. कहा कि वे चुनावी बांड के माध्यम से दान को डोनेशन नहीं करते हैं.


 

चुनाव आयोग के नियमों के अनुसार राजनीतिक दलों को वित्तीय वर्ष में मिलने वाले सभी दान की घोषणा करनी जरूरी है. हालांकि उन्हें उन व्यक्तियों या संस्थाओं के नामों का खुलासा करने की आवश्यकता नहीं है जिन्होंने 20,000 रुपये से कम का योगदान दिया है. गैर सरकारी संगठन एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स ने इस महीने के शुरू में कहा था कि इस साल अप्रैल-मई में आम चुनावों के बाद से 277 करोड़ रुपये के इलेक्टोरल बॉन्ड बेचे गए हैं.

संगठन ने कहा कि मार्च 2018 से अब तक बेचे गए चुनावी बांड की कीमत 6,128 करोड़ रुपये तक पहुंच गई है. चुनावी बांड को व्यक्ति या कॉरपोरेट समूह भारतीय स्टेट बैंक से खरीद सकते हैं और एक राजनीतिक पार्टी को दे सकते हैं. ये बांड गुमनाम हैं. यह योजना जनवरी 2018 में शुरू की गई थी. अप्रैल में सूचना के अधिकार के एक प्रश्न ने खुलासा किया था कि राजनीतिक दलों को मार्च 2018 और 24 जनवरी, 2019 के बीच चुनावी बॉन्ड के माध्यम से 99.8 फीसदी डोनेशन 10 लाख रुपये और 1 करोड़ रुपये के रूप में मिला.

'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' के सामने ताजमहल की चमक भी पड़ गई फीकी, की 700 लाख ज्यादा की कमाई

First published: 12 November 2019, 9:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी