Home » बिज़नेस » Black Day for BlackBerry: Company will not manufacture smartphone itself, but focus on sofware development
 

ब्लैकबेरी का ब्लैक डेः अब कंपनी नहीं बनाएगी स्मार्टफोन

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 29 September 2016, 14:15 IST

एक वक्त दुनिया में अपने स्मार्टफोनों और रिम सेवा के लिए मशहूर ब्लैकबेरी के सामने अब अस्तित्व का संकट मंडराने लगा है. कनाडा की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी ब्लैकबेरी ने घोषणा की है कि वो अब स्मार्टफोन नहीं बनाएगी. 

बता दें कि अब भी दुनिया में ब्लैकबेरी के काफी चाहने वाले लोग मौजूद हैं. लेकिन इस घोषणा के बाद उन्हें काफी धक्का पहुंचेगा. माइक्रोसॉफ्ट और नोकिया की ही तरह रिसर्च इन मोशन (रिम) नाम से जानी जाने वाली कंपनी ने बीते एक दशक में आईफोन और एंड्रॉयड की बढ़ती प्रसिद्धि को नजरंदाज किया और इसे चुनौती नहीं माना. 

दिसंबर 2017 तक रिलायंस जियो वेलकम ऑफर बढ़ाने का तरीका है गैरकानूनी

बदलावों को अपनाने और नई तकनीक से कदमताल न कर पाने के चलते अब कंपनी ने काफी देर कर दी. ब्लैकबेरी को एप्पल आईफोन और सैमसंग गैलेक्सी के प्रीमियम हैंडसेट्स से कड़ी प्रतिस्पर्धा मिलती रही. 

हालांकि इस बीच ब्लैकबेरी ने बीबी 7 और बीबी 10 लाकर कुछ वापसी की कोशिश की लेकिन बाजार के मुताबिक खुद को ढाल न पाने के चलते उसके चाहने वालों की तादाद कम होती रही. 

जानिए कौन से ऐप्स हैं स्मार्टफोन की बैटरी के दुश्मन

इतना ही नहीं इस साल ब्लैकबेरी ने एंड्रॉयड आधारित अपने काफी ज्यादा कीमत के स्मार्टफोन प्रिव को भी लॉन्च किया और इसके बाद एक और हैंडसेट कम कीमत में लॉन्च किया. लेकिन बाजार में मौजूद अन्य स्मार्टफोनों की तुलना में ज्यादा कीमत वाले होने के चलते इनकी बिक्री कंपनी की उम्मीदों पर नहीं हो सकी. 

ऐसा नहीं है कि आज लोग ब्लैकबेरी इस्तेमाल नहीं करते लेकिन बीबी यूजर्स इसके साथ ही दूसरा स्मार्टफोन (आईफोन या एंड्रॉयड) भी रखते हैं. 

जानिए स्मार्टफोन को कैसे बनाया जा सकता है वाटरप्रूफ

ब्लैकबेरी के सीईओ जॉन चेन द्वारा की गई ताजा घोषणा में उन्होंने कहा, "इस रणनीति के तहत हम अब सिक्योरिटी और एप्लीकेशंस के सााथ सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं. कंपनी की योजना है कि अब सभी इंटर्नल हार्डवेयर डेवलपमेंट को बंद कर दिया जाए और सहयोगियों के जरिये इसे बाहर से मंगाया जाए. इससे पूंजी की जरूरत कम होगी और निवेश की जा चुकी रकम पर ज्यादा मुनाफा हो सकेगा."

ब्लैकबेरी अभी कुछ वक्त पहले लॉन्च किए गए अपने फोन DTEK50 के साथ ऐसा कर भी चुकी है, जिसे टीसीएल ने बनाया. इसका मतलब कि अब फोनों पर ब्लैकबेरी का लोगो तो दिखेगा लेकिन उसे बनाया किसी और ने होगा. कंपनी अब अपना ध्यान ज्यादा सुरक्षित एंड्रॉयड आधारित ऐप बनाने में करेगी. 

First published: 29 September 2016, 14:15 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी