Home » बिज़नेस » BN Srikrishna draft new data-privacy laws for facebook and goolge
 

77 साल का पूर्व जज बना रहा है डेटा चोरी रोकने के लिए फेसबुक और गूगल के लिए रूल

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2018, 12:14 IST

बीते दिनों डेटा चोरी की कई ख़बरों ने दुनियाभर में खूब सुर्खियां बटोरी. इस डेटा चोरी की गिरफ्त में भारत भी आ चुका है. भारत में डेटा के जरिये चुनावों को भी प्रभावित करने की बात सामने आने लगी है. इसी को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज बीएन श्रीकृष्ण भारत में गूगल, फेसबुक और अमेज़न जैसी अमेरिकी और अन्य कंपनियों पर नियंत्रण के लिए एक पॉलिसी तैयार कर रहे हैं.

श्रीकृष्ण भारत के लिए नए डेटा-गोपनीयता कानूनों का मसौदा तैयार करने का प्रयास कर रहे हैं जो इस बात को नियंत्रित करेंगे कि अमेरिकी और अन्य जगहों के तकनीकी दिग्गजों ने 1.3 बिलियन के देश में कैसे काम किया है. उनकी सिफारिशों में विशेष वजन है क्योंकि फेसबुक पहले से ही फेसबुक इंक जैसी कंपनियों के लिए सबसे बड़ा बाजार है. श्रीकृष्ण इस सप्ताह सरकार को अपना बिल भेज देंगे.

गौरतलब है कि फेसबुक पर डेटा उल्लंघन के आरोप लगते जा रहे हैं. आरोप यह भी लगा कि 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूस ने दखल दी थी. जिसमें 145 मिलियन लोगों का डेटा चुराया गया था. भारत डिजिटल युग की ओर बढ़ रहा है. काउंटरपॉइंट रिसर्च के अनुसार 2012 में 25 मिलियन से 2017 के अंत तक भारत में स्मार्टफोन इस्तेमाल लड़ने वाले लोगों की संख्या 370 मिलियन तक पहुंच गई.

सरकार ने दुनिया की सबसे महत्वाकांक्षी बायोमेट्रिक पहचान प्रणाली तैयार की है जिसे आधार कहा जाता है. भारत में डेटा को लेकर कोई कानून न होना और डेटा चोरी ने सरकार की चिंता को बढ़ाया है. आंध्र प्रदेश में हाल ही में गलत तरीके 130,000 से अधिक लोगों के बैंक डेटा सहित कई महत्वपूर्ण जानकारियां लीक हो गई थी.

2006 में श्रीकृष्ण सर्वोच्च न्यायालय से सेवानिवृत्त हुए और तब से उन्होंने कई उच्च प्रोफ़ाइल आयोगों का नेतृत्व किया है, जिसमें एक सरकारी वेतन की जांच भी शामिल है. उनका मानना है कि ज्यादातर भारतीयों को पता नहीं है कि वे कितना डेटा कंपनियों को दे रहे हैं और इसका उपयोग कैसे किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें : दमदार लुक वाली Ducati- Monster 797 Plus भारत में हुई लॉन्च, जानें कीमत

First published: 11 June 2018, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी