Home » बिज़नेस » Boeing's 737 Max returned again, India may soon give permission to fly
 

फिर लौट आया बोइंग का 737 Max जेट, भारत भी जल्द दे सकता है उड़ने की अनुमति

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 August 2021, 15:50 IST

भारत बोइंग कंपनी के 737 मैक्स जेट (737 Max)विमानों को देश में उड़ानों को फिर से शुरू करने की अनुमति देने के लिए तैयार है. एक रिपोर्ट के अनुसार इस मामले से संबंधित एक व्यक्ति ने कहा ''भारत विमान के प्रदर्शन से खुश है क्योंकि यह अमेरिका, यूरोप और कई अन्य देशों में अन-ग्राउंड था. बोइंग ने भारत की अपनी आवश्यकताओं को पूरा कर लिया है, जिसमें एक मैक्स सिम्युलेटर स्थापित करना शामिल है.''

भारत के उड्डयन मंत्रालय के प्रवक्ता राजीव जैन ने कहा कि मैक्स को अन-ग्राउंड करने के फैसले का इंतजार है. बोइंग के एक प्रतिनिधि ने कहा कि कंपनी दुनिया भर में मैक्स को सुरक्षित रूप से सेवा में वापस लाने के लिए वैश्विक नियामकों के साथ काम कर रही है. 195 वैश्विक नियामकों में से 170 से अधिक ने मॉडल के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोल दिया है.


भारत में मंजूरी बोइंग के लिए एक बड़ी उपलब्धि होगी, क्योंकि भारत में यह 2 साल से जमीन पर था, जहां एयरबस एसई के ए 320-फैमिली विमान आसमान पर हावी हैं. बीजिंग ने दो घातक दुर्घटनाओं के बाद 2019 में मैक्स को जमीन पर उतारने के लिए सबसे पहले कदम उठाया था.

बाद में दुनिया भर के विमानन अधिकारियों के आदेशों का एक सिलसिला शुरू हो गया, बोइंग ने बुधवार को चीन में नियामकों के लिए एक परीक्षण उड़ान का आयोजन किया.

व्यक्ति ने कहा कि अरबपति निवेशक राकेश झुनझुनवाला द्वारा समर्थित एक नई भारतीय एयरलाइन अकासा ने भी 737 मैक्स जेट संचालित करने की अपनी इच्छा के बारे में अधिकारियों से संपर्क किया है. ब्लूमबर्ग न्यूज ने इस सप्ताह की शुरुआत में बताया कि बोइंग अकासा के साथ 80 मैक्स विमानों को बेचने के लिए उन्नत चर्चा में है.

स्पाइसजेट लिमिटेड, एकमात्र भारतीय वाहक जिसके पास ऑर्डर पर 737 मैक्स जेट हैं. अप्रैल में भारत ने अन्य देशों में पंजीकृत मैक्स जेट्स को भारतीय हवाई क्षेत्र में प्रवेश करने की अनुमति दी, यदि उस देश के पंजीकरण प्राधिकरण द्वारा उड़ान की अनुमति है.

पांच महीने के भीतर दो दुर्घटनाओं के लगभग दो साल बाद यह फैसला आया, जिसमें इंडोनेशिया और इथियोपिया में 346 लोग मारे गए, जिससे दुनिया भर में इसकी ग्राउंडिंग हो गई.

व्यक्ति ने कहा कि भारत आयातित और बिल्कुल नए मैक्स जेट विमानों को तुरंत उड़ान भरने की अनुमति दे सकता है, लेकिन ग्राउंडेड विमानों को फिर से उड़ान भरने के लिए लगभग एक महीने की आवश्यकता होगी.

भारत हाल तक दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ता विमानन बाजार है. अनुमान है कि देश में एयरलाइंस को अगले 20 वर्षों में लगभग 320 अरब डॉलर मूल्य के 2,200 से अधिक नए जेट की आवश्यकता होगी.

Gold Price Today : 4 महीने में सबसे कम कीमत पर पहुंचा सोना, जानिए आज दिल्ली, पटना लखनऊ के दाम

First published: 12 August 2021, 15:50 IST
 
अगली कहानी