Home » बिज़नेस » BSNL aims to sell 10,000 satellite phones by March 2019
 

BSNL ने रखा साल 2019 तक 10000 सैटेलाइट फोन बेचने का लक्ष्य

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 July 2018, 15:08 IST

अपनी उपग्रह फोन सेवाओं के हाई प्रोफाइल लॉन्च होने के एक साल बाद बीएसएनएल ने 4,000 हैंडसेट बेचे हैं, जो कि सरकारी एजेंसियों के लिए बहुमत है और उम्मीद है कि मार्च 20 9 तक यह संख्या 10,000 तक पहुंच जाएगी. सैटेलाइट फोन बिजनेस अच्छा कर रहा है और रक्षा, सेना, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), आपदा प्रबंधन एजेंसियों, ओएनजीसी (तेल और प्राकृतिक गैस निगम), रेलवे और कुछ निजी क्षेत्र में 4,000 सैटेलाइट फोन हैंडसेट बेचे जाते हैं.

एक सैटेलाइट फोन उपग्रहों के माध्यम से संचार सेवाओं को चलाया जाता है, जो स्थलीय मोबाइल टावरों के विपरीत है. सैटेलाइट फोन परिस्थितियों और स्थानों में उपयोग किया जाता है जहां स्थलीय मोबाइल सेवा उपलब्ध नहीं हो सकती है. सैटेलाइट फोन देश के किसी भी हिस्से में उड़ानों और जहाजों के अंदर भी काम कर सकते हैं, क्योंकि वे पृथ्वी से 35,700 किमी दूर स्थित उपग्रहों से सीधे सिग्नल पर निर्भर करते हैं.

 

पारंपरिक मोबाइल नेटवर्क टावरों के आस-पास लगभग 25-30 किलोमीटर तक कवर करते हैं और टावर की ऊंचाई के बराबर या नीचे रखे फोन पर संकेत भेज सकते हैं. आपदा प्रबंधन, राज्य पुलिस, रेलवे, बीएसएफ और अन्यों को संभालने वाली एजेंसियों के अलावा, यहां तक कि बहुराष्ट्रीय कंपनियां अब भी कहीं भी और किसी भी समय जुड़े रहने की आवश्यकता महसूस कर रहे हैं, इस तथ्य के बावजूद कि हैंडसेट स्वयं महंगा है, यहां तक कि सेवाएं प्रीमियम पर भी आती हैं - टैरिफ 25-30 रूपये प्रति मिनट है.

भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) का कहना है कि उसने इस कारोबार से 100 करोड़ रुपये का राजस्व अर्जित किया है, जिसे मई 2017 में शुरू किया गया था. 2018-19 के लिए बीएसएनएल ने बेचे जाने वाले 10,000 हैंडसेट का लक्ष्य निर्धारित किया है. नौसेना, होटल, मछली पकड़ने के ट्रेलरों से अतिरिक्त व्यवसाय यह इस्तेमाल हो रहा है.

ये भी पढ़ें : नोएडा- ग्रेटर नोएडा में जमकर बिक रहे फ्लैट, गुड़गांव में आयी 52 फीसदी की गिरावट

First published: 22 July 2018, 15:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी