Home » बिज़नेस » BSNL wants to give VRS to 80 thousand employees: Report
 

BSNL अपने 80 हजार कर्मचारियों को देना चाहता है VRS : रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 September 2019, 18:00 IST

सरकार द्वारा संचलित भारत संचार निगम लिमिटेड 80 हजार कर्मचारियों को कम करने की योजना बना रहा है. बीएसएनल इन कर्मचारियों को वॉलेंट्री रिटायरमेंट स्कीम (वीआरएस) के तहत रिटायरमेंट देना चाहता है. बीएसएनएल इस कदम के पीछे मकसद अपनी ऑपरेशनल कॉस्ट को भी कम करना है.

बीएसएनएल के कर्मचारी यूनियन का कहना है कि वर्तमान में कंपनी का रेवेन्यू वर्तमान में 32000 करोड़ से 18000 करोड़ आ चुका है. इसी तरह कंपनी अपने ऊर्जा खपत को भी 15 फीसदी तक कम करना चाहती है. बीएसएनएल अभी तक अपने कर्मचारियों को अगस्त की सैलरी नहीं दे पाया है और कर्मचारी प्रदर्शन कर रहे हैं. तेलंगाना में बीएसएनएल के 6,500 से अधिक कर्मचारियों ने वेतन में देरी के कारण विरोध किया.

 

यह तीसरी बार हैं जब कंपनी अपने कर्मचारियों को सैलरी वक्त पर नहीं दे पायी है. एक रिपोर्ट के अनुसार कंपनी कॉन्ट्रैक्ट पर कर्मचारियों को रखना चाहती है. इसके अलावा भी कंपनी के एक लाख कर्मचारी पेरोल पर हैं. सिर्फ बीएसएनएल नहीं है, बल्कि सभी टेलीकॉम डेटा सेवाओं से कम आय की समस्या से जूझ रहे हैं.

रिलायंस जियो के आने के बाद टेलिकॉम कंपनियों को अपनी डेटा की कीमतों में बड़ी कमी करनी पड़ी थी. पहले से ही घाटे से जूझ रही कंपनियों का इससे घाटा बढ़ गया. दो बड़ी कंपनियों आईडिया और वोडफोन को आपस में विलय करना पड़ा. वर्तमान में जियो ग्राहकों के लिहाज से सबसे बड़ी कंपनी बनने की कगार पर है.

ऑटो संकट : टाटा ट्रक से लेकर रॉयल एनफील्ड तक, अगस्त में लगा इतना बड़ा झटका

First published: 5 September 2019, 15:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी