Home » बिज़नेस » Budget 2017: SIT has suggested no cash transaction above Rs 3 lakhs. Govt has accepted this: FM Jaitley
 

मिडिल क्लास को राहत, 3 लाख की आमदनी टैक्स फ्री, 2.5-5 लाख पर 5 फीसदी छूट

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 February 2017, 13:25 IST

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा में बुधवार को वित्त वर्ष 2017-18 का आम बजट पेश किया. वित्त मंत्री ने बड़ा एलान करते हुए टैक्स स्लैब में थोड़ा बदलाव किया है. 

वित्त मंत्री ने टैक्स छूट के लिए न्यूनतम आय की सीमा को 2.5 लाख रुपये से बढ़ाकर 3 लाख रुपय कर दिया है. इससे अब 3 लाख रुपये की वार्षिक आय पर कोई टैक्स नहीं लगेगा. वहीं अब ढाई लाख से 5 लाख रुपये तक की सलाना आय पर सिर्फ 5 फीसदी टैक्स देना होगा. 

वहीं पांच लाख से 10 लाख की आय पर पहले की तरह 20 फीसदी और 10 लाख से ज्यादा सालाना आय पर 30 फीसदी टैक्स देना होगा. हालांकि मौजूदा सर्विस टैक्स 15% में कोई बदलाव नहीं किया गया है. 

इसके अलावा बजट में 50 लाख से एक करोड़ तक की आय पर 10 फीसदी सरचार्ज और एक करोड़ की आय पर अब 15 फीसदी सरचार्ज का एलान किया गया है.वित्‍त मंत्री ने इस बार के बजट में टैक्स से संबंधित कई आंकड़ो का उल्लेख किया. 

 टैक्स से संबंधित आंकड़े इस तरह हैं:

  • आयकर रिटर्न भरने वाले सिर्फ 1.74 करोड़ लोग
  • मोटे तौर पर आयकर नहीं देने वाला समाज हैं हम 
  • 1.72 लाख लोगों ने 50 लाख से ज्यादा आय दिखाई
  • 24 लाख लोग 10 लाख से ज्यादा आय बताते हैं
  • 99 लाख लोगों ने 2.5 लाख से कम आय बताई
  • 76 लाख लोगों ने 5 लाख से ज्यादा आय बताई
  • 5 लाख से ज्यादा आय बताने वालों में 56 लाख वेतनभोगी
  • 5.9 फीसदी कंपनियों ने आयकर रिटर्न फाइल किया
  • सिर्फ 7000 कंपनियों ने 10 करोड़ से ज्यादा का मुनाफा दिखाया
  • निजी आयकर में 3.48 प्रतिशत की बढ़ोतरी
  • देश में टैक्स बचाने वाले लोगों की संख्या ज्यादा
इसके अलावा जेटली ने कहा कि  नोटबंदी से टैक्स चोरी की पोल खुली है. जेटली ने टैक्स से जुड़े कई नए एलान किए. 

टैक्स से संबंधित एलान इस प्रकार हैं:

  • 1.48 लाख खातों में 80 लाख से अधिक जमा हुए 
  • 1.09 करोड़ खातों में 2 से 80 लाख रुपये तक जमा हुए 
  • 50 करोड़ टर्नओवर वाली कंपनियों का टैक्स घटा 
  • 50 करोड़ से कम कंपनियों के लिए 5 प्रतिशत टैक्स कम होगा
  • छोटी कंपनियों का टैक्स 30 फीसदी से घटकर 25 फीसदी
  • मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए छूट
  • कैपिटल गेन टैक्स की अवधि तीन साल से दो साल की गई
  • 3 लाख से ज्यादा नकदी लेन-देन पर रोक
  • काले धन की जांच के लिए विशेष जांच दल
  • पार्टी फंडिंग में पारदर्शिता होने पर टैक्स में छूट 
  • राजनैतिक दल 2,000 रुपये से ज़्यादा नकद चंदा नहीं ले पाएंगे
  • दो हजार से ज्यादा सिंगल डोनेशन पर चेक और ई ट्रांसफर

First published: 1 February 2017, 13:25 IST
SIT
 
पिछली कहानी
अगली कहानी