Home » बिज़नेस » Budget 2019 know why railway budget merged with union budget by jaitley
 

Budget 2019: जानिए क्यों आम बजट के साथ मर्ज कर दिया गया रेलवे बजट

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 July 2019, 8:42 IST

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश करेंगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आम बजट के साथ रेलवे बजट भी पेश करेंगी. बता दें कि पहले आम बजट और रेलवे बजट को अलग-अलग पेश किया जाता था. वित्त मंत्री आम बजट पेश करते थे और रेलवे बजट पेश करने की जिम्मेदारी रेल मंत्री की होती थी, यही नहीं आम बजट और रेलवे बजट को अलग-अलग दिन पेश किया जाता था, लेकिन मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल के दौरान इसमें बदलाव कर दिया और रेलवे बजट भी आम बजट के साथ पेश किया जाने लगा. 

आज हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं कि आखिर रेलवे बजट को आम बजट के साथ मर्ज क्यों कर दिया गया. साल 2017 के बजट सत्र के दौरान तत्कालीन वित्तमंत्री अरुण जेटली ने 92 साल पुरानी इस प्रथा को खत्म कर आम बजट और रेलवे बजट को एक साथ पेश किया जाने लगा. इससे पहले रेलवे बजट आम बजट से एक दिन पहले पेश किया जाता था. जिसे रेल मंत्री पेश किया करते थे.

यही नहीं आम बजट में रेलवे बजट को मर्ज करने के साथ ही वित्त मंत्री जेटली ने बजट पेश करने की तारीख भी बदल दी. उसके बाद बजट हर साल 1 फरवरी को पेश किया जाने लगा. साथ ही इकॉनमिक सर्वे भी 31 जनवरी को आने की शुरुआत कर दी गई.

तत्कालीन वित्त मंत्री जेटली ने बजट को करीब एक महीना पहले पेश करने और आम बजट में रेलवे बजट को मर्ज करने का फैसला सरकार ने बजटीय सुधारों के तहत लिया था. बता दें कि रेलवे और आम बजट को अलग-अलग पेश करने की प्रथा साल 1924 में ब्रिटिश शासन के दौरान शुरु की गई थी. क्योंकि सरकार के राजस्व का एक बड़ा हिस्सा और सकल घरेलू उत्पाद (GDP) रेलवे द्वारा अर्जित राजस्व पर निर्भर रहता था. क्योंकि उस समय रेलवे से प्राप्त राजस्व अनुपातिक रूप से बहुत अधिक होता था. रेलवे का बजट कुल केंद्रीय बजट के 80 फीसदी से अधिक होता था.

File Photo

योजना आयोग की जगह बनाया गया नीति आयोग ने भी मोदी सरकार को नौ दशक से चली आ रही इस प्रथा को खत्म करने की सलाह दी थी. उसके बाद काफी विचार-विमर्श और अलग-अलग अथॉरिटीज के साथ मंथन के बाद ये फैसला लिया गया कि अब रेलवे बजट को आम बजट में मर्ज कर दिया जाए. यह विचार व्यावहारिक था क्योंकि यूनियन बजट की तुलना में अब रेलवे बजट का हिस्सा बहुत कम रह गया है. उसके बाद पहली बार साल 2017 में आम बजट और रेलवे बजट को एक साथ पेश किया गया.

Budget 2019: मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में जनता को दिए ये तोहफे

First published: 5 July 2019, 8:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी