Home » बिज़नेस » buying travel tickets online may get expensive under gst, travel agents liable to deduct tcs under gst.
 

GST की वजह से महंगा हो सकता है ऑनलाइन ट्रैवल टिकट

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2017, 16:41 IST

ऑनलाइन टिकट और दूसरी सेवाएं देने वाले ट्रैवल एजेंटों को वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) व्यवस्था में स्रोत पर 1% की कर कटौती करनी होगी. ऐसे में जीएसटी रेजीम के तहत लोगों को ट्रैवल टिकट पर ज्यादा पैसे चुकाने पड़ सकते हैं. सीबीईसी ने यह जानकारी दी है.

केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीईसी) ने कहा कि इन एजेंटों को ई-कामर्स ऑपरेटरों के रूप में क्लासीफाइड किया गया है. वहीं जीएसटी रेजीम में ई-कामर्स ऑपरेटर को उसके जरिये होने वाली टैक्सेबल सप्लाई की नेट वैल्यू का 1% कलेक्ट करना होता है.

इस प्रावधान को कुछ समय के लिए रोक कर रखा गया है. ऐसे में ऑनलाइन ट्रैवल एजेंटों को भी 1% टीसीएस की कटौती करनी होगी. सीबीईसी ने अपनी वेबसाइट पर FAQ सेक्शन में कहा कि वेबसाइट के जरिये अपने खुद के उत्पाद बेचने वाले पर टीसीएस की अनिवार्यता लागू नहीं होगी. ऐसे मामलों में उत्पाद पर बस तय जीएसटी ही लगा करेगा.

सीबीईसी ने कहा, "डिजिटल या इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म के माध्यम से सर्विसेस देने वाले ऑनलाइन ट्रैवल एजेंट्स ईसीओ (ई-कॉमर्स ऑपरेटर) की कैटेगरी में आएंगे और उन्हें सीजीएसटी एक्ट, 2017 के सेक्शन 5 के अंतर्गत डीसीएस डिडक्ट करना होगा."

सीबीईसी ने स्पष्ट किया कि थ्रेसहोल्ड एग्जम्प्शन का लाभ ई-कॉमर्स ऑपरेटर या ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर सप्लायर को नहीं मिलेगा. 20 लाख तक टर्नओवर वाले कारोबारियों को जीएसटी से छूट दी गई है.

First published: 9 August 2017, 16:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी