Home » बिज़नेस » CBI books 13 ONGC officials in Rs 80 crore scam
 

80 करोड़ के घोटाले में ONGC के 13 अधिकारी CBI के शिकंजे में

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 June 2018, 10:22 IST

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने शुक्रवार को कहा कि उसने 80 करोड़ रुपये के घोटाले में कथित भूमिका के लिए तेल और प्राकृतिक गैस निगम (ONGC) लिमिटेड के 13 वरिष्ठ सेवारत और सेवानिवृत्त अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज किया है.

जांच एजेंसी का दावा है कि इस मामले में आरोपी ने आंध्र प्रदेश में अपने राजमुंदरी संयंत्र के लिए गैस डीहाइड्रेशन इकाइयों की आपूर्ति के लिए निजी कंपनी दीप इंडस्ट्रीज लिमिटेड को अवैध रूप से अनुबंध देने के लिए 2014 में अपनी शक्तियों का दुरुपयोग किया था.

सीबीआई ने कहा कि अधिकारियों पर दीप इंडस्ट्रीज लिमिटेड को 312 करोड़ रुपये का ठेका देने में अपने पद का दुरुपयोग करने का आरोप है.

निगम के पूर्व कार्यकारी निदेशक डीजी सान्याल, पूर्व निदेशक (ऑनशोर ऑपरेशंस) अशोक वर्मा और पूर्व महानिदेशक (उत्पादन) अरुप रतन दास का नाम इस घोटाले में दर्ज एफआईआर में शामिल है.

जांच एजेंसी ने दावा किया कि दास ने दस्तावेज यह दिखाने के लिए तैयार किये थे कि डीप इंडस्ट्रीज लिमिटेड अनुबंध के लिए एकमात्र बोलीदाता है. दास ने निजी फर्म के लाभ के लिए गैस निर्जलीकरण इकाइयों को भर्ती करने के पक्ष में भी एक तर्क दिया. सीबीआई ने आरोप लगाया कि कंपनी ने मानदंडों का उल्लंघन कर अनुमानित लागत को 219 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 312 करोड़ रुपये किया.

ये भी पढ़ें : पेट्रोल-डीजल के बाद अब घरेलू गैस में लगी महंगाई की आग, हुआ इतने रुपए महंगा

First published: 1 June 2018, 10:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी