Home » बिज़नेस » Central Government ready to merge all PSUs in six banks
 

इन 6 बैकों को छोड़कर बंद हो जाएंगे सारे बैंक, क्या होगा आपके बैंक का !

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 September 2018, 17:29 IST

केंद्र की मोदी सरकार ने हाल ही में तीन बड़े सरकारी बैंक बैंक ऑफ बड़ौदा, विजया बैंक और देना बैंक के विलय को मंजूरी दी है. इन बैंकों के विलय के बाद एक नया बैंक बनेगा. यह देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक होगा. बड़ी बात यह है कि इन तीनों बैंकों के विलय को मंजूरी के बाद सरकार ने संकेत दे दिया है कि वह इस दिशा में आगे भी कदम बढ़ा सकती है.

मीडिया एक रिपोर्ट के अनुसार, सरकार बैंकों के मर्जर की प्रक्रिया को आगे जारी रखते हुए देश में बैंकों की संख्या में कमी कर सकती है. बैंकों के विलय के बाद आने वाले समय में देश में सरकारी बैंकों की संख्या 5 या 6 रह जाएगी. अन्य सभी बैंकों का दूसरे बैंकों में मर्जर किया जा सकता है. 

बता दें कि देश में इस समय कुल 21 सरकारी बैंक हैं. हाल ही में सरकार ने तीन बैंकों के विलय को मंजूरी दी है. आने वाले समय में सरकार पंजाब नेशनल बैंक के साथ अन्य बैंकों का मर्जर कर सकती है. संभावना जताई जा रही है कि ओबीसी, इलाहाबाद बैंक, कॉरपोरेशन बैंक और इंडियन बैंक का पंजाब नेशनल बैंक में विलय किया जा सकता है.

पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: पुलिसकर्मियों के मर्डर से आतंकियों के खौफ में अफसर, कई SPO ने धड़ाधड़ दिया इस्तीफा

खबर के मुताबिक, पंजाब नेशनल बैंक में तीन बैंकों की ही विलय कर सकती है. इसका कारण यह है कि सरकार तीन-तीन के ग्रुप में ही मर्जर करना चाहती है. सरकार बैंकों के मर्जर के जरिए अर्थव्यवस्था को मजबूती देना चाहती है और इसके संकेत सरकार ने पहले ही दिए थे. इसके अलावा कई ब्रोकरेज फर्म भी बैंकों के मर्जर की वकालत कर चुकी हैं.

केंद्र सरकार देश के सभी बैंकों का विलय दो चरणों में करना चाहती है. पहले चरण में कुल 21 सरकारी बैंकों को घटाकर इनकी संख्या 12 की जा सकती है. इन बैंकों के विलय की सफलता के बाद अगले चरण में सरकार बैंकों की संख्या को घटाकर 5या 6 किया जा सकता है. बैंकों के विलय के लिए सरकार ने एक वैकल्पिक व्यवस्था भी की है. इस व्यवस्था के तहत सरकार एक मर्जर की सफलता के बाद अन्य बैंकों का विलय करेगी.

पढ़ें- CAG की रिपोर्ट में खुलासा, गुजरात सरकार ने 16 साल से 2140 करोड़ रुपये का नहीं दिया हिसाब

अगले चरण में पंजाब नेशनल बैंक में ओबीसी, इलाहाबाद बैंक, कॉरपोरेशन बैंक, इंडियन बैंक का विलय हो सकता है. इसके अलावा केनरा बैंक में सिंडिकेट बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक और यूको बैंक का विलय होने की खबरें हैं. यूनियन बैंक में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और बैंक ऑफ इंडिया में आंध्र बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र का विलय किया जा सकता है.

First published: 21 September 2018, 17:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी