Home » बिज़नेस » Central Vigilance Commission completes analysis of top 100 banking frauds in the country
 

किन वजहों से हो रहे देश में बैंक फ्रॉड, CVC ने दी 100 मामलों पर अपनी रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 October 2018, 11:41 IST

केन्द्रीय सतर्कता आयोग ने मंगलवार को कहा कि उसने शीर्ष 100 बैंकिंग धोखाधड़ी के मामलों का विश्लेषण पूरा कर लिया है और इसकी रिपोर्ट भारतीय रिज़र्व बैंक, प्रवर्तन निदेशालय और केंद्रीय जांच ब्यूरो के साथ साझा की है. केन्द्रीय सतर्कता आयोग ने कहा कि विश्लेषण में यह बात सामने आयी है कि जिस मॉडस ऑपरेंडी से अधिकतर फ्रॉड किये गए उन विसंगतियों और कमियों को भविष्य में रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाये जाने चाहिए.

विजिलेंस कमिश्नर टीएएम भसीन ने बताया कि 13 क्षेत्रों  जेम्स और आभूषण, विनिर्माण और उद्योग, कृषि, मीडिया, विमानन, सर्विस एंड प्रोजेक्ट, चेक, व्यापार, सूचना प्रौद्योगिकी, निर्यात व्यापार, सावधि जमा और मांग ऋण क्षेत्रों मेंधोखाधड़ी का विश्लेषण किया गया था.

 

भसीन ने बताया "निष्कर्षों के आधार पर अंतिम रिपोर्ट में सिस्टमिक सुधार के लिए विभिन्न सुझाव दिए गए हैं, जिन्हें वित्तीय सेवाओं विभाग को भी भेजा गया है. आरबीआई ने आयोग की रिपोर्ट की पुष्टि की है और कहा है कि इसके द्वारा दिए गए इनपुट बहुत उपयोगी हैं और जोखिमों को कम करने के लिए व्यवस्थित सुधार के लिए इनका इस्तेमाल किया जाएगा.

सतर्कता आयुक्त ने कहा कि सावधानी बरतने के लिए उधारकर्ताओं और बैंकों के नाम रिपोर्ट में प्रकाशित नहीं किए गए हैं. प्रमुख जांच एजेंसियों द्वारा आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं. गौरतलब है कि पिछले कुछ वर्षों में हाई प्रोफ़ाइल बैंक धोखाधड़ी के कई मामले सामने आए हैं. पंजाब नेशनल बैंक को 13,000 करोड़ रुपये से ज्यादा का चूना लगाने के बाद नीरव मोदी देश छोड़कर भाग गए थे. जबकि 9,000 करोड़ रुपये से अधिक का ऋण न चुकाने वाला शराब कारोबारी विजय ब्रिटेन में रह रहा है.

ये भी पढ़ें ; Amazon खरीद सकता है फ्यूचर ग्रुप में हिस्सेदारी, फ्लिपकार्ट से मुकाबले की तैयारी

First published: 17 October 2018, 11:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी