Home » बिज़नेस » Chhatrapati Shivaji Airport of Mumbai Why are the travelers sweating these days?
 

मुंबई के छत्रपति शिवाजी एयरपोर्ट पर इन दिनों क्यों छूट रहे हैं यात्रियों पसीने ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 February 2019, 17:09 IST

भारत की वित्तीय राजधानी मुंबई के छत्रपति शिवजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर इन दिनों यात्रियों को बेहद मुश्किलों का सामना करना पद रहा है. अनुमान के मुताबिक मुंबई से लगभग एक चौथाई उड़ानें मार्च के महीने से रद्द हो सकती है. जब से किराया बढ़ा है बढ़ा हवाईअड्डे के अधिकारी उड़ान भरने के लिए छटपटा रहे हैं. एक सामान्य दिन में छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा अपने दो रनवे के साथ 940 उड़ानों को संभालता है.

रखरखाव के लिए 7 फरवरी से 30 मार्च तक दोनों वैकल्पिक दिनों में छह घंटे के लिए दोनों बंद रहते हैं, बंद होने की अवधि के दौरान प्रत्येक वैकल्पिक दिन में लगभग 230 कम उड़ानें होंगी. मुंबई हवाई अड्डे पर रखरखाव कार्य रनवे के चौराहे पर किया जाएगा, जिससे दोनों रनवे बंद हो जाएंगे. यूके स्थित कंसल्टेंसी OAG की एक रिपोर्ट के अनुसार, दिसंबर 2018 के दौरान मुंबई हवाई अड्डे पर कुल प्रस्थान का केवल 60.4% समय पर था. इसी अवधि में, नई दिल्ली से लगभग 79.2% प्रस्थान समय पर था, जबकि हैदराबाद और बेंगलुरु हवाई अड्डों के लिए यह आंकड़ा क्रमशः 76.4% और 73.8% था.

 

मिंट की एक रिपोर्ट के अनुसार बेंगलुरु स्थित एक सॉफ्टवेयर पेशेवर, जो भारत की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सेवा कंपनियों में से एक के लिए काम करता है, और अक्सर मुंबई की यात्रा करता है, ने कहा कि हवाई अड्डे पर असुविधा और लंबी यात्री कतार के अलावा, रनवे बंद होने के कारण हवाई किराए में जबरदस्त वृद्धि हुई है. नाम न छापने की शर्त पर बोलने वाले व्यक्ति ने कहा कि बेंगलुरु-मुंबई सेक्टर में वापसी किराया, जो आमतौर पर 6,000-10,000 की रेंज में होता है, वह 15,000-16,000 तक बढ़ गया है.

निश्चित रूप से, एयरो इंडिया शो 2019 के कारण 14 से 24 फरवरी तक बेंगलुरु में हवाई अड्डे का आंशिक रूप से बंद होना भी समस्या का कारण बना. रिपोर्ट के अनुसार पिछले सप्ताह शहर की यात्रा करने वाले व्यक्ति ने कहा, "मुंबई की यात्रा करना दर्दनाक है. शहर में ढहते बुनियादी ढाँचों को जोड़ने का काम चल रहा है." इस दौरान हवाई अड्डे से दक्षिण मुंबई पहुँचने में काफी समय लगता है. इसके अलावा, जब आप एयरपोर्ट पहुंचते हैं, तब से चेक-इन और सुरक्षा के लिए लंबी कतारों के बाद काफी समय लगता है.

जेट एयरवेज संकट : सैलरी नहीं मिली तो 1 अप्रैल से फिर हड़ताल पर जा सकते हैं पायलट

First published: 25 February 2019, 17:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी