Home » बिज़नेस » China panicked by Boycott China, read what the official newspaper Global Times wrote
 

इंडिया के 'बॉयकॉट चाइना' से घबराया चीन, पढ़िए सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने क्या लिखा

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 June 2020, 10:22 IST

सीमा पर भारत के साथ तनाव के बीच चीन को आर्थिक नुकसान का डर सताने लगा है. वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर बढ़े तनाव से चीनी व्यवसायों को झटका लगने वाला है. 400 किलोमीटर से अधिक रेलवे लाइनों में सिग्नलिंग सिस्टम स्थापित करने के लिए एक चीनी कंपनी से 500 करोड़ रुपये के अनुबंध नहीं किया जायेगा. बीएसएनएल का कहना है कि वह अपनी 4जी सुविधाओं को अपग्रेड करने के लिए चीन निर्मित उपकरणों का उपयोग नहीं करेगी. प्राइवेट टेलीकॉम कंपनियों को भी चीनी सामानों पर नहीं निर्भर रहने के लिए कहा जा सकता है. भारत के इन कदमों से चीन में भी चिंता देखी जा सकती है.

चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स में भी इसपर चिंता जताई गई है. अख़बार ने लिखा ''गलवान घाटी क्षेत्र में चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच एक घातक शारीरिक झड़प के बाद भारत में कुछ समूह चीन का बहिष्कार कर रहे हैं''. लिखा गया है ''राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सहयोगी स्वदेशी जागरण मंच (एसजेएम) ने चीन और चीनी उत्पादों का आर्थिक बहिष्कार करने की अपनी मांग को फिर से दोहराया है. इस तरह के कदम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के लिए अवास्तविक और आत्म-विनाशकारी है. सीमा पर नए तनाव का आंकलन करते समय भारत को यह समझना चाहिए कि चीन का संयम कमजोर नहीं है''.


 

अख़बार के एडिटोरियल में लिखा गया है ''दोनों देशों को अपने बहुमूल्य विकास के अवसरों को संजोना चाहिए और अच्छे द्विपक्षीय संबंधों को बनाए रखना चाहिए''. अख़बार ने लिखा चीन विरोधी समूहों को जनता को भड़काने की अनुमति देना बेहद खतरनाक होगा, इस तरह तनाव बढ़ सकता है. दोनों पक्षों और क्षेत्र के लिए प्राथमिकता और आर्थिक सुधार में तेजी लाना है.

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा ''कोरोना वायरस महामारी के बीच वैश्विक अर्थव्यवस्था को बड़ी अनिश्चितता का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में यदि चीन और भारत सीमा तनाव को बढ़ाते हैं तो दोनों तरफ के आर्थिक विकास को भारी नुकसान होगा''. आगे अख़बार ने लिखा ''चीन और भारत के बीच आर्थिक सहयोग का स्थान बहुत बड़ा है. दोनों देशों के बीच आर्थिक और व्यापार सहयोग का बहुत महत्व है. इसी तरह महामारी के पर काबू पाने में क्षेत्रीय और वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं का भी बहुत महत्व है.

LAC तनाव के बीच चीन से भारत पर बढ़े साइबर हमले, निशाने पर सूचना और वित्तीय भुगतान प्रणाली

First published: 18 June 2020, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी