Home » बिज़नेस » china remove import duties on 28 medicines, including all cancer drugs
 

चीन ने दिया भारत की फार्मा इंडस्ट्री को बड़ा तोहफा, कैंसर के मरीजों को मिलेगी राहत

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 May 2018, 17:15 IST

चीन ने भारत द्वारा आयात किये जाने वाली 28 दवाओं पर इम्पोर्ट ड्यूटी को कम कर दिया है. इन दवाओं में कैंसर की दवाएं भी शामिल हैं. भारत में चीन के राजदूत लो झोहुई ने अपने ट्वीट में कहा कि यह भारत के फार्मा उद्योग और चीन के लिए दवा निर्यात के लिए अच्छी खबर है, उनका मानना है कि इससे चीन और भारत के बीच व्यापार असंतुलन को कम करने में भी मदद मिलेगी.

वर्तमान में चीन व्यवसाय शुरू करने के लिए आवश्यक समय को कम करके वातावरण को सुधारने में लगा हुआ है. चीन का कहना है कि वह दुनियाभर के लिए अपना दरवाजा खोलना चाहता है. चीन के राजदूत ने अपने ट्वीट में कहा कि इंडियन व्यवसाइयों का स्वागत है. हालांकि चीन का यह कदम सिर्फ भारत के लिए नहीं बल्कि यह विश्व व्यापार संगठन के सभी सदस्यों के लिए लागू है. भारत के वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु ने चीन के कदम की सराहना की है.

उन्होंने कहा है यह कदम भारत से दवा निर्यात को बढ़ावा देगा और भारतीय फार्मा उद्योग को लाभ देगा. भारत और चीन मार्च में 51 अरब डॉलर के व्यापार घाटे पर एक्शन पॉइंट्स और टाइमलाइन के साथ एक रोडमैप बनाने पर सहमत हुए थे. 

यूएस वाणिज्य विभाग के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार प्रशासन (आईटीए) के अनुसार, चीनी दवा बाजार 2015 में 108 अरब डॉलर से बढ़कर 2020 तक 167 अरब डॉलर होने का अनुमान है.

चीनी दवाओं के प्रमुख दवाओं पर  इम्पोर्ट ड्यूटी को हटाने का निर्णय इस स्वास्थ्य देखभाल लागत को कम करने का प्रयास है. चीनी समाचार पत्र पीपुल्स डेली इसे बहुत स्पष्ट बनाता है. इस छूट से कैंसर की दवाओं, सहित अन्य दवा की कीमतों में कम 20 प्रतिशत कम हो जाएंगी. चीन में ट्यूमर से लड़ने के लिए प्रयुक्त एंटीनोप्लास्टिक दवाओं का बाजार करीब 1 9 .1 अरब डॉलर है.

ये भी पढ़ें : क्या GSTN को सरकारी कंपनी बनाने के पीछे सरकार की ये मजबूरी थी ?

First published: 5 May 2018, 16:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी