Home » बिज़नेस » China stopped Boeing 737 Max flight, but many flying in India  
 

चीन ने रोक दी उड़ान, लेकिन भारत में अब भी उड़ रहे हैं इतने बोइंग 737 मैक्स

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 March 2019, 16:10 IST

चीन ने रविवार को इथियोपियन एयरलाइंस द्वारा संचालित विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद चीन ने अपने सभी बोइंग 737 मैक्स विमानों पर रोक लगा दी लेकिन भारतीय एयरलाइनों ने बोइंग 737 मैक्स विमानों का संचालन जारी रखा है. एक रिपोर्ट के अनुसार एविएशन रेगुलेटर डीजीसीए इसको लेकर एयरलाइन कंपनियों से सवाल कर सकता है. इससे पहले नैरोबी-बाउंड इथियोपियन एयरलाइंस 737 मैक्स 8 टेक-ऑफ के कुछ ही मिनटों बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिससे सभी 157 लोग मारे गए हैं.

इस घटनाक्रम के बाद भारत में विमानों को संचालित करने वाले जेट एयरवेज और स्पाइसजेट के प्रवक्ताओं ने इस प्रकार के विमानों के आगे के उपयोग के बारे में अपनी एयरलाइंस की योजनाओं पर कोई टिप्पणी नहीं की. डीजीसीए ने हाल ही में विमान दुर्घटनाओं के कारणों का आकलन करने के बाद एयरलाइंस को सलाह दी थी.

भारत में कितने बोइंग ?

स्पाइसजेट के बेड़े में 13 बोइंग 737 मैक्स विमानों का परिचालन करता है. जबकि जेट एयरवेज अपने बेड़े में ऐसे पांच विमानों का परिचालन करता है. हालांकि जेट एयरवेज के स्वामित्व वाले बोइंग 737 मैक्स विमानों में से अधिकांश बकाया राशि का भुगतान न करने के कारण बंद हैं. एक रिपोर्ट के अनुसार इस पर डीजीसीए के एक अधिकारी ने का कहना है कि नियामक बोइंग कंपनी के संपर्क में है, और भारतीय वाहक द्वारा संचालित बोइंग 737 मैक्स विमान के बारे में अधिक जानकारी मांगी है.

 

बोइंग सीओ ने एक बयान में कहा कि इथियोपियाई एयरलाइंस दुर्घटना जांच में अब तक उपलब्ध सूचनाओं के आधार पर ऑपरेटरों को नए मार्गदर्शन जारी करने का कोई आधार नहीं है. बोइंग 737 मैक्स विमान ने 2017 में प्रवेश किया था, और इसे ईंधन कुशल विमान माना जाता है. स्पाइसजेट और जेट एयरवेज जैसी भारतीय एयरलाइनों ने बोइंग के इस विमान के ऑर्डर दिए हैं. जिन्हे आगामी 10 सालों में वितरित किया जाना है.

बोइंग 737 मैक्स विमानों की दुनिया भर में भारी मांग है क्योंकि उन्हें एयरलाइन की ईंधन लागत में लगभग 15% और इंजीनियरिंग और रखरखाव की लागत में 10-15% की कमी लाने का दावा किया जाता है. 2015 में जेट एयरवेज ने 75 बोइंग 737 मैक्स विमानों के लिए ऑर्डर दिया था और इसे 75 तक बढ़ा दिया था.

जनवरी 2017 में स्पाइसजेट ने 205 बोइंग विमानों के लिए 22 बिलियन डॉलर या 1,50,000 करोड़ रुपये का ऑर्डर दिया था.
हाल ही में इथियोपियन एयरलाइंस द्वारा संचालित बोइंग 737 मैक्स विमान की दुर्घटना पिछले छह महीनों में बोइंग 737 मैक्स विमान से जुड़े इस तरह की दूसरी दुर्घटना है.

इससे पहले अक्टूबर में इंडोनेशियाई वाहक लायन एयर द्वारा जकार्ता से घरेलू मार्ग पर उड़ान भरने वाला एक 737 मैक्स टेक-ऑफ के 13 मिनट बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. जिससे सभी 189 यात्रियों और चालक दल के सदस्य मारे गए.

प्रसिद्ध पत्रिका 'चंदामामा' के मालिकों पर लगा स्विस बैंक में कालाधन रखने का आरोप

First published: 11 March 2019, 16:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी