Home » बिज़नेस » Coronavirus: China’s Factories Work 24/7 to Build Ventilators for US
 

इस चीनी कंपनी के वर्कर 24/7 काम करके अमेरिका को भेज रहे हैं वेंटिलेटर

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 March 2020, 12:37 IST

चीन के वुहान के पैदा हुए खतरनाक कोरोना वायरस (coronavirus) ने पूरी दुनिया में तबाही मचा दी है. चीन को इसका सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है लेकिन चीन में आज भी कई कंपनियां अपने काम में लगी हुई हैं. ऐसी ही के कंपनी है 'बीजिंग एयोनमेड' (Aeonmed), जो 20 जनवरी से लगातार काम पर लगी हुई है. कंपनी लगातार वेंटिलेटर का उत्पादन कर रही है. कंपनी को विदेशों से भी लगातार आर्डर आ रहे हैं. यहां तीन शिफ्ट में काम किया जा रहा है.

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार बीजिंग Aeonmed के निदेशक ली काई ने कहा "दुनिया में सचमुच कोई ऐसा देश नहीं है जो अभी चीन से वेंटिलेटर नहीं खरीदना चाहता है." उन्होंने कहा "हमारे पास वेटिंग में हजारों ऑर्डर्स हैं. लेकिन सवाल अभी यह है कि हम उन्हें कितनी जल्दी बना सकते हैं.” कोरोनोवायरस से वैश्विक मौतों का आंकड़ा 15,000 के पार पहुंचने के बाद न्यूयॉर्क के डॉक्टर हताश होकर लगातार वेंटिलेटर की मांग कर रहे हैं.

गंभीर मामलों में एक वेंटिलेटर की उपलब्धता COVID -19 रोगी को सांस लेने में मदद करती है. इस दौरान इंसान जीवन वेंटिलेटर पर निर्भर रहता है. पिछले हफ्ते के अंत में न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्रयू क्यूमो ने कहा था कि राज्य में 5,000 से 6,000 वेंटिलेटर हैं, जबकि 30,000 की आवश्यकता हो सकती है. अमेरिकी राष्ट्रपति से भी वेंटिलेटर की आवश्यकता की मांग की गई है. 

अमेरिका को है वेंटिलेटर की बड़ी जरूरत 

क्रिटिकल केयर मेडिसिन सोसायटी का अनुमान है कि COVID -19 के कारण अमेरिका में कुल 960,000 रोगियों को वेंटिलेटर सपोर्ट की आवश्यकता होगी, लेकिन उसके पास लगभग 200,000 ऐसी मशीनें हैं. इटली में महामारी से सबसे ज्यादा लोगों की जान गई है, जिन्हे वेंटिलेटर की जरूरत थी. ब्लूमबर्ग के अनुसार मिलान, न्यूयॉर्क के लिए वेंटिलेटर बनाने के लिए चीन के कारखानों में चौबीसों घंटे काम चल रहा है. हालांकि बीजिंग एओनमेड जैसी कंपनियों के लिए यह दर्जनों देशों के लिए किया जाने वाला कारोबार है.

कंपनियां फुल डिमांड पर 

चिकित्सा उपकरण आपूर्तिकर्ताओं और खरीदारों को जोड़ने वाले चीन की वेडेंग डॉट कॉम पर आपूर्ति श्रृंखला के निदेशक वू चुआनपू ने कहा "चीन में सभी वेंटिलेटर कारखाने अपनी मैक्सिमम कैपिसिटी तक पहुंच गए हैं. कंपनियां विदेशी ऑर्डर्स से भरी हुई हैं.

वू चुआनपू के अनुसार कारखानों को मई तक पूर्ण क्षमता पर रखने के आदेश हैं. वेंटिलेटर फेफड़ों में ऑक्सीजन पंप करते हैं और शरीर से कार्बन डाइऑक्साइड को निकालते हैं. कोरोनोवायरस से पीड़ित कई रोगियों को मशीन की आवश्यकता होती है क्योंकि उनके ब्लड में ऑक्सीजन का स्तर तेजी से गिरता है.

वेंटिलेटर की मांग इतनी अधिक है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मशीनों को बनाने के लिए अपने संयंत्रों को फिर से कॉन्फ़िगर करने के लिए वाहन निर्माताओं को अनुमति दी है. फोर्ड मोटर कंपनी, जनरल मोटर्स कंपनी और टेस्ला इंक वेंटिलेटर बनाने के लिए आगे आयीं हैं.

भारत के पास कोरोना वायरस से लड़ने की जबरदस्त क्षमता, पोलियो जैसी बीमारियों को हराया : WHO

First published: 24 March 2020, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी