Home » बिज़नेस » Coronavirus: Many factories closed in China, 13 percent of India's imports at risk
 

Coronavirus: चीन में कई कारखाने बंद, खतरे में भारत का 13 फीसदी आयात

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 February 2020, 9:16 IST

चीन की जानी मानी ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा का कहना है कि कोरोनोवायरस से फैली महामारी से चीन की अर्थव्यवस्था पर बड़ा असर पड़ सकता है. अलीबाबा व्यापारियों का समर्थन करने के लिए विशेष कार्यक्रम चला रहा है, जिसमें शुल्क कम करना और डिलीवरी कर्मियों के लिए सब्सिडी प्रदान करना शामिल है. कोरोनोवायरस ने चीन की अर्थव्यवस्था को तोड़ कर रख दिया है. चीन के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार 60,000 से अधिक लोगों पर इसकी पुष्टि हो चुकी है.

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार इस दौरान चीन में कार की बिक्री 22 फीसदी घटकर 1.71 मिलियन यूनिट रह गई है. यह जनवरी महीने में सबसे बड़ी गिरावट मानी जा रही है. चाइना पैसेंजर कार एसोसिएशन के अनुसार फरवरी में बिक्री 30 फीसदी घट सकती है. चीन में कोरोनावायरस के कारण कई कारखाने बन हुए हैं. चीन का सबसे बड़ा आर्थिक गतिविधि वाला शहर हुबेई प्रांत, जिसका आकार स्वीडन की अर्थव्यवस्था के बराबर है, तीन सप्ताह से बंद है. माना जा रहा है कि यह घटनाक्रम भारत को ही बुरी तरह प्रभावित कर सकता है.

साल 2004-5 के बाद चीन भारत का सबसे बड़ आयात का श्रोत रहा है. सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) के आंकड़ों की माने तो 2018-19 में भारत के कुल आयात का 13.7 फीसदी चीन से था. चीनी अर्थव्यवस्था भारत के लिए एक महत्वपूर्ण निर्यात बाजार भी है. CMIE डेटा से पता चलता है कि 2018-19 में अमेरिका और संयुक्त अरब अमीरात के बाद चीन भारत का तीसरा सबसे बड़ा निर्यात बाजार था.

अगर चीनी अर्थव्यवस्था कोरोनावायरस के विघटन से जल्द नहीं उबर पायी तो निर्यात के मामले में कच्चे माल के उत्पादकों को सबसे ज्यादा नुकसान होगा. चीन को भारत के निर्यात का पांच साल का औसत बताता है कि चीन के पास भारत से कुल कच्चे माल के निर्यात का 10.03% हिस्सा था.

AGR: 17 मार्च तक Vodafone और Airtel को चुकाने पड़ेंगे 1.47 लाख करोड़ रुपये- SC

First published: 15 February 2020, 9:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी