Home » बिज़नेस » Coronavirus: Report claims- doctors are forced to treat wearing raincoats and bike helmets
 

Coronavirus: रेनकोट और बाइक हेलमेट पहनकर इलाज करने को मजबूर हैं डॉक्टर- रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 March 2020, 15:35 IST

भारत में कोरोना वायरस की चपेट में अबतक 1200 से ज्यादा लोग आ चुके हैं और इनके इलाज के दौरान डॉक्टरों को मास्क और कवर जैसे सुरक्षा उपकरणों की कमी सामना करना पड़ रहा है. रॉयटर्स ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि भारत में कई जगह डॉक्टरों को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए रेनकोट और मोटरबाइक हेलमेट का इस्तेमाल करने के लिए मजबूर हैं. कहा गया है कि COVID -19 मामलों में हो रही बढ़ोतरी के मद्देनजर यह बड़ी कमी को उजागर करती है.

नरेंद्र मोदी की सरकार ने सोमवार को कहा कि भारत इस तरह के सामान की भारी मात्रा में खरीद करने की कोशिश कर रहा है, जिसे पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (पीपीई) कहा जाता है. सरकार कुछ घरेलू स्तर पर और कुछ दक्षिण कोरिया और चीन से मंगाकर इस कमी को पूरा कर रही है. ऐसी खबरें ऐसे वक्त में सामने आ रही हैं जब सर्वेक्षण भी दावा किया गया है कि अगर हालात सुधरे नहीं तो मई के मध्य तक 100,000 से अधिक लोग संक्रमित हो सकते हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि कोलकाता में कोरोनोवायरस उपचार सुविधा में जूनियर डॉक्टरों को मरीजों की जांच करने के लिए प्लास्टिक रेनकोट दिया गया था. रिपोर्ट के अनुसार नाम न बताने की शर्त पर एक डॉक्टर ने कहा "हमने अपनी जान की कीमत पर काम नहीं करना चाहते." अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक प्रभारी डॉ. असीस मन्ना ने इस पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. रिपोर्ट के अनुसार हरियाणा राज्य में ईएसआई अस्पताल के डॉ. संदीप गर्ग ने कहा कि वह एक मोटरसाइकिल हेलमेट का इस्तेमाल कर रहे है, क्योंकि उनके पास कोई एन 95 मास्क नहीं है.


भारत अपने सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 1.3% सार्वजनिक स्वास्थ्य पर खर्च करता है, जो दुनिया में सबसे कम है. रिपोर्ट में है कि हरियाणा के रोहतक शहर के एक राजकीय अस्पताल में कई जूनियर डॉक्टरों का कहना है कि जब तक कि उनके पास पर्याप्त सुरक्षा उपकरण न हों, वह इलाज नहीं करेंगे. एक डॉक्टर ने कहा कि अब एक COVID-19 फंड की स्थापना की गई है जिसमें प्रत्येक डॉक्टर ने मास्क और अन्य फेस कवरिंग खरीदने के लिए 1,000 रुपये डोनेट किये हैं.

लॉकडाउन: एक अजीब मुसीबत में केरल सरकार, अब शराब की ऑनलाइन बिक्री पर कर रही विचार

First published: 31 March 2020, 15:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी