Home » बिज़नेस » coronavirus: rumor spread on WhatsApp, this industry has lost crores
 

WhatsApp पर फैली कोरोना वायरस की ये अफवाह, पोल्ट्री इंडस्ट्री को लग गया करोड़ों का चूना

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 February 2020, 10:00 IST

दुनियाभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) के बीच कई अफवाहें चल रही हैं. शीर्ष आपूर्तिकर्ता गोदरेज एग्रोवेट लिमिटेड ने गुरुवार को कहा कि यह एक झूठी अफवाह कि मुर्गियों द्वारा कोरोनो वायरस का प्रसार किया जा सकता है. सोशल मीडिया में यह अफवाह लगातार फैलती जा रही है कि भारतीय पोल्ट्री की बिक्री लगभग 50 फीसदी तक घट गई है. सोशल मीडिया, खासकर व्हाट्सएप पर कई भ्रामक जानकारी देकर धारणा बनाई जा रही है कि कोरोनो वायरस को मुर्गियों की बिक्री रोककर इससेबचा जा सकता है. 

गोदरेज एग्रोवेट लिमिटेड ने जानकारी दी है कि बिक्री चार सप्ताह पहले 75 मिलियन से लगभग 40 मिलियन हो गई है. पोल्ट्री से संबंधित बिक्री में गिरावट के लिए वेंकी सहित अन्य भारतीय पोल्ट्री फर्मों ने भी सोशल मीडिया द्वारा फैलाई गई अफवाहों का हवाला दिया है. कीमतों में गिरावट ने किसानों को चोट पहुंचाई है. कहा गया है कि किसानों को अब 30 से 35 प्रति बर्ड मिल रहा है, जो 80 से 85 से नीचे आया है.


कहा गया है कि कुछ किसानों ने पहले ही उत्पादन में कटौती करना शुरू कर दिया है, क्योंकि वे पक्षियों के लिए पशु चारा और अन्य लागतों को वहन नहीं कर सकते हैं. पहली बार पिछले 24 घंटों में दुनियाभर में नए कोरोना वायरस संक्रमणों की संख्या चीन में बढ़ गई है. वैज्ञानिकों का कहना है कि नए कोरोनोवायरस की उत्पत्ति चमगादड़ों में हुई थी और फिर एक मध्यस्थ पशु प्रजाति के माध्यम से मनुष्यों में आयी है.

कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति से खांसी या छींकने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में यह स्थानांतरित किया जाता है. यह दूषित सतहों जैसे दरवाज़े के हैंडल या रेलिंग के माध्यम से भी फैल सकता है. कहा गया है कि चिकन की खपत का कोरोनावायरस से कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन बिक्री में थोड़ा समय लगेगा क्योंकि चिकन उत्पादन रातोंरात नहीं बढ़ सकता."

कोरोना वायरस ने दुनियाभर में मचाया तहलका, अबतक 2800 लोगों की मौत, 82 हजार से ज्यादा संक्रमित

First published: 28 February 2020, 10:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी