Home » बिज़नेस » Coronavirus: Trump said malaria drug profitable on corona, India stopped export of hydroxychloroquine
 

coronavirus: अमेरिका अपने मरीजों पर कर रहा है इस दवा का इस्तेमाल, ट्रंप ने बताया असरदार

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 March 2020, 9:09 IST

अमेरिका में कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीजों की संख्या 100000 पार हो गई है. अमेरिका लगातार कोरोना वायरस की दवा की खोज कर रहा है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका अपने मरीजों के इलाज में मलेरिया की एक दवा का इस्तेमाल कर रहा है. भारत में भी ICMR ने इसकी सलाह दी है. भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमितों संख्या बढ़कर 800 पहुंच गई है. इस बीच सरकार ने मलेरिया रोधी दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिससे घरेलू बाजार में दवा की पर्याप्त उपलब्धता हो सके.

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने सोमवार को संदिग्ध या सामने आ चुके कोरोनोवायरस मामलों को संभाल रहे हेल्थ केयर वर्कर्स को इलाज के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के इस्तेमाल की सिफारिश की थी. COVID-19 के लिए ICMR द्वारा गठित नेशनल टास्क फोर्स द्वारा सुझाए गए उपचार प्रोटोकॉल को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) द्वारा आपातकालीन स्थितियों में प्रतिबंधित उपयोग के लिए अनुमोदित किया गया है.

बुधवार को जारी एक नोटिफिकेशन में विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी), जो वाणिज्य मंत्रालय का एक हिस्सा है, ने कहा "हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का निर्यात तत्काल प्रभाव से रोका जा रहा है. हालांकि यह कहा गया है कि सरकार विदेश मंत्रालय की सिफारिश के बाद मानवीय आधार पर दवा के निर्यात की अनुमति देगी. निर्यात को स्पेशल इकोनॉमिक जोन और एक्सपोर्ट ओरिएंटेड यूनिट से करने की अनुमति है.''

 

हालांकि इस नोटिफिकेशन के जारी होने की तारीख से पहले या शिपमेंट के लिए पहले से प्राप्त किये गए भुगतान के मामलों में निर्यात की अनुमति दी जाएगी. कुछ रिपोर्टों के अनुसार अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा हाइड्रोविक्लोरोक्वाइन कोरोना वायरस के मामलों लाभदायक है. पिछले कुछ हफ्तों में भारत ने चिकित्सा उपकरणों के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिसमें सैनिटाइटर और सभी प्रकार के वेंटिलेटर और सर्जिकल मास्क शामिल हैं.

इस चीनी कंपनी के वर्कर 24/7 काम करके अमेरिका को भेज रहे हैं वेंटिलेटर

First published: 25 March 2020, 8:59 IST
 
अगली कहानी