Home » बिज़नेस » Corporate donated more than one crore given to Gaushalas after coming to Modi Government
 

मोदी सरकार आने के बाद कॉरपोरेट जगत ने गौशालाओं को दिया एक करोड़ से ज्यादा का दान

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 January 2018, 14:34 IST

साल 2014 में केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद गौरक्षा के नाम पर देश का कार्पोरेट जगत भी सक्रिय हुआ है. एनडीटीवी की एक रिपोर्ट बताती है कि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) में दर्ज शीर्ष 500 में से करीब 11 ने कंपनियों ने 2015 से 2017 के बीच गोशालाओं को एक करोड़ 42 लाख रुपये का दान दिया.

सबसे खास बात यह है कि साल 2014 में केंद्र में बीजेपी सरकार आने के बाद कंपनियों द्वारा गौशालाओं को मदद देने में बढ़ोतरी हुई है.

 

2014 से पहले नही दिया दान 

एनडीटीवी की माने तो इन 11 कंपनियों की सालाना रिपोर्ट में 2014 से पहले गाय आश्रयों या गाय कल्याण के लिए कोई दान नहीं किया गया था, या उनके सीएसआर खर्च पर कोई सूचना नहीं थी.

वर्ष 2013 तक सरकार ने सभी कंपनियों को सीएसआर पर अपने औसत शुद्ध मुनाफे का न्यूनतम 2% खर्च करने के लिए अनिवार्य किया. रिपोर्ट के अनुसार सीएसआर निधि के लगभग सभी प्राप्तकर्ता कुल 16 गाय आश्रयों ने पुष्टि की कि उन्हें 2014 से पहले कोई कॉर्पोरेट दान नहीं मिला था.

एनडीटीवी के अनुसार इनमे सबसे बड़ी दाता कंपनी पोद्दार पिगमेंट्स है, यह जयपुर स्थित एक रसायन कंपनी है जिसने 68 लाख रुपये इसने  2 गौशालाओं को दान किया. 

कंपनी ने 47 लाख रुपए राजस्थान में झुनझुनू के श्री गौरी शंकर गोशाला को दान दिए, जबकि हनुमान प्रसाद स्मारक समिति नाम के एक ट्रस्ट के जरिये एक अन्य गोशाला को 21 लाख रु दिए गए.

इस ट्रस्ट के अध्यक्ष विश्व हिन्दू परिषद के सबसे प्रमुख नेताओं में से एक विष्णु हरि डालमिया हैं विश्व हिन्दू परिषद के बड़े नेता हैं.

First published: 16 January 2018, 14:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी