Home » बिज़नेस » Cosmos Bank hack: Rs 78 crore was ‘physically withdrawn’ from 28 countries using cloned ATM cards
 

हैकर्स ने बनाया 'क्लोन एटीएम' और उड़ा ली इस बैंक से 78 करोड़ रूपये की रकम

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 August 2018, 14:44 IST

हैकर्स ने एक बार फिर से कॉसमॉस बैंक को निशाना बनाया है. इस बार हैकर्स ने क्लोन एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करते हुए 28 देशों से 78 करोड़ रुपये उड़ा लिए. इससे पहले 14 अगस्त को बैंक के एक सर्वर को कथित तौर पर हैक किया गया था और देशभर के बैंक खातों से 94 करोड़ रुपये से ज्यादा का हस्तांतरण किया था. इस बैंक का मुख्यालय महाराष्ट्र के पुणे शहर में है.

पुलिस उपायुक्त (साइबर व आर्थिक अपराध शाखा) के डीसीपी ज्योतिप्रिया सिंह ने बताया है ‘ब्रिटेन, अमेरिका, रूस, यूएई और कनाडा उन 28 देशों में शामिल हैं जहां से 78 करोड़ रुपये के क्लोन एटीएम कार्डों के जरिए निकाले गए हैं. उन्होंने कहा कि साइबर सेल आगे की कार्रवाई के लिए इन देशों की कानून प्रवर्तन एजेंसियों के संपर्क कर रही है. साइबर सेल का लक्ष्य 28 देशों से पैसे वापस लेने के लिए "मनी म्यूल्स" की पहचान करना होगा.

ये भी पढ़ें : तेल कंपनियों का अपने डीलर्स को फरमान- आउटलेट्स पर लगाए मोदी की फोटो

सिंह ने कहा कि अज्ञात हैकरों ने बैंक की प्रणाली का अध्ययन किया होगा. उन्होंने कहा "हमें संदेह है कि हमले से पहले बैंक को कुछ अलर्ट प्राप्त हुए होंगे और हम बैंक से सुरक्षा ऑडिट रिपोर्ट की प्रतीक्षा कर रहे हैं." घटना के बाद पुणे में पुलिस ने एक अज्ञात व्यक्ति और हांगकांग स्थित कंपनी के खिलाफ एफआईआर दायर की है.

बैंक के अधिकारियों को पुणे में गणेशखिंद रोड पर बैंक के मुख्यालय में स्थित एक सर्वर पर मैलवेयर हमले का संदेह है. एक अज्ञात अधिकारी ने कहा कि 11 अगस्त को 14,849 डेबिट कार्ड लेनदेन के माध्यम से पहले 80.5 करोड़ रुपये विदेशी बैंक में स्थानांतरित किए गए और दो दिन बाद एक और 13.9 करोड़ रुपये स्विफ्ट लेनदेन के माध्यम से स्थानांतरित किये गए.

दूसरा लेनदेन कथित रूप से हांगकांग में हैंग सेंग बैंक में एएलएम ट्रेडिंग लिमिटेड के खाते किया गया. एफआईआर के अनुसार मैलवेयर हमले के दौरान हजारों डेबिट कार्ड की जानकारी चोरी हो गई थी. द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार 13.5 करोड़ रुपए धोखाधड़ी की गई राशि का एक हिस्सा मकाऊ में स्थानांतरित किया गया था.

एक अज्ञात वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, "दूसरे हस्तांतरण को ट्रैक करने पर यह सामने आया कि पैसा तब निवेश बैंकिंग कंपनी के खाते में स्थानांतरित कर दिया गया जहां से उसने मकाऊ जाने का रास्ता बनाया.'' अधिकारी ने कहा कि मकाऊ में बड़ी निकासी आम है क्योंकि यह एक लोकप्रिय जुआ खेलने का अड्डा है.

First published: 25 August 2018, 14:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी