Home » बिज़नेस » Daiichi-Ranbaxy case: Will send Singh brothers to jail if guilty of contempt, says SC
 

मुश्किल में सिंह ब्रदर्स, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- अवमानना की तो जायेंगे जेल

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 April 2019, 15:00 IST

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटरों मालविंदर और शिविंदर सिंह द्वारा 14 मार्च दिए गए जवाबों पर असंतोष व्यक्त किया है. सुपराम कोर्ट ने दोनों भाइयों से कहा कि वह सिंगापुर ट्रिब्यूनल के निर्देशों का पालन करें, जिनमे उन्हें दाईची सांक्यो को 4,000 करोड़ का भुगतान करने के लिए कहा गया है.

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि अब सिंह भाइयों के खिलाफ जापानी फर्म दाइची सांक्यो को भुगतान को किये जाने के निर्देश का उल्लंघन करने पर जेल भेजने का आदेश सुनाया जायेगा. जस्टिस दीपक गुप्ता और संजीव खन्ना की बेंच ने भी अब 11 अप्रैल को सुनवाई के लिए पूर्व रैनबैक्सी प्रमोटर्स के खिलाफ जापानी फर्मों की अवमानना याचिका तय की है.

 

पीठ ने कहा, "आप आधी दुनिया के मालिक हो सकते हैं लेकिन इस बात की कोई ठोस योजना नहीं है कि किस तरह भुगतान किया जायेगा. अदालत ने कहा आपने कहा कि किसी पर आपका 6,000 करोड़ बकाया है.

सिंह के भाइयों के खिलाफ जापानी फर्म की अवमानना याचिका सिंगापुर ट्रिब्यूनल द्वारा निर्देशित 4,000 करोड़ की वसूली की मांग करती है. दाइची ने 2008 में रैनबैक्सी को खरीदा था. बाद में, इसने सिंगापुर मध्यस्थता न्यायाधिकरण पर आरोप लगाया कि सिंह बंधुओं ने जानकारी साझा की थी कि रैनबैक्सी अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन और न्याय विभाग द्वारा अपने शेयरों को बेच रही है.

ये सरकारी तेल कंपनियां अपने रिटायर कर्मचारियों को दे रही है 1 लाख से ज्यादा का ईनाम

First published: 5 April 2019, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी