Home » बिज़नेस » data of GDP, Chidambaram tweet, CSO data, GDP growth
 

जीडीपी ग्रोथ को लेकर जारी नए आंकड़ों के बाद चिदंबरम बोले 'हमारा डर और चेतावनी सही साबित हुई'

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 January 2018, 9:22 IST

नोटबंदी और जीएसटी को लेकर विपक्ष के आरोपों को झेल रही मोदी सरकार के सामने जीडीपी ग्रोथ को लेकर सीएसओ के ताजा आंकड़ों से बड़ा झटका लगा है. साल साल 2016-17 में जीडीपी की ग्रोथ रेट जहाँ 7.1% थी वहीँ इसके 2017-2018 के बीच 6.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

सीएसओ के ये आंकड़े ऐसे वक़्त में आये हैं जब सरकार आगामी बजट की तैयारियों में लगी हुई है. हालाँकि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने संसद में स्वीकार किया था कि 2016 -17 के दौरान जीडीपी की रफ़्तार कुछ धीमी पड़ी है.

सीएसओ के आंकड़ों में बताया गया है कि साल 2017-18 के दौरान प्रतिव्यक्ति आय में 5.3 फीसदी बढ़ोतरी का रहने का अनुमान है, जबकि पिछले वित्त वर्ष 2016-17 में प्रतिव्यक्ति आय में वृद्धि की दर 5.7% थी।

सीएसओ आंकड़ों के अनुसार कृषि ग्रोथ के 4.9 से घटकर 2.1 फीसद रहने का अनुमान जताया गया है। वहीं माइनिंग ग्रोथ के 2.9 फीसद रहने का अनुमान है। इसके अलावा जीवीए के 6.1 फीसद पर रहने का अनुमान है।

 

कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने इन आंकड़ों के बाद सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि "हमारा डर और चेतावनी सही साबित हुई। 2015-16 और 2016-17 क्रमशः 8.1, 7.1 रही। 2017-18 में जीडीपी विकास दर 6.5 रहने का अनुमान है। ये आंकड़े साबित करते हैं कि आर्थिक मंदी है।"

First published: 6 January 2018, 9:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी