Home » बिज़नेस » Double standards under NDA’, claims Vijay Mallya after Jet Airways bailout
 

जेट एयरवेज बेलआउट के बाद छलका माल्या का दर्द, कहा- मोदी सरकार ने अपनाये दोहरे मापदंड

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 March 2019, 13:01 IST

भगोड़े व्यापारी विजय माल्या ने मंगलवार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार पर दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाया और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों पर हमला करते हुए किंगफिशर एयरलाइंस को विफल करने का आरोप लगाया. जेट एयरवेज की घोषणा के एक दिन बाद माल्या की टिप्पणी आई, जिसमें जेट एयरवेज ऋणदाताओं से 1,500 करोड़ रुपये प्राप्त करेगा.

भारतीय स्टेट बैंक निजी एयरलाइन का सबसे बड़ा ऋणदाता है और एयरलाइन को पुनर्जीवित करने के लिए एक व्यापक योजना तैयार करने के प्रयासों का नेतृत्व कर रहा है. ट्वीट्स करते हुए माल्या ने कहा कि उन्हें खुशी है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने जेट एयरवेज को बेल आउट दे दी है, इस प्रकार नौकरियों, कनेक्टिविटी और उद्यम की बचत हुई है. उन्होंने कहा "काश किंगफिशर के लिए भी यही होता," माल्या वर्तमान में ब्रिटेन में भारत के प्रत्यर्पण का सामना कर रहे हैं.

 

माल्या ने कहा कि उन्होंने कंपनी और उसके कर्मचारियों को बचाने के लिए किंगफिशर एयरलाइंस में 4,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया. वही पीएसयू बैंकों ने फेल किया और एनडीए के तहत दोहरे मापदंड अपनाये गए." माल्या ने कहा- तब तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा किंगफिशर एयरलाइंस को बचाने के प्रयासों की बीजेपी ने आलोचना की थी. 

जेट एयरवेज से नरेश गोयल के बाहर निकलते ही कंपनी के अच्छे दिन शुरू !

 

उन्होंने कहा, "भाजपा प्रवक्ता ने मेरे पत्रों को पीएम मनमोहन सिंह को पढ़कर सुनाया और आरोप लगाया कि यूपीए सरकार के तहत पीएसयू बैंकों ने किंगफिशर एयरलाइंस का गलत समर्थन किया था," उन्होंने ट्वीट किया “मीडिया ने मुझे वर्तमान पीएम को लिखने के लिए उकसाया. मुझे आश्चर्य है कि एनडीए सरकार के तहत अब क्या बदल गया है.”

First published: 26 March 2019, 13:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी