Home » बिज़नेस » ED seized 3.57 crore from tour and travel companies in Delhi, Ghaziabad
 

ED ने रेड मारकर दिल्ली, गाजियाबाद में टूर एंड ट्रैवल कंपनियों से जब्त किये 3.57 करोड़

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 July 2020, 15:21 IST

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने 9 जुलाई को दिल्ली और गाजियाबाद में 8 जगहों पर FEMA के तहत छापेमारी की, जिमसें बड़ी मात्रा में नकदी जब्त की गई है. ईडी ने कई टूर एंड ट्रैवल कंपनियों के निदेशकों, उनके सीए के आवासों और दफ्तरों पर छापेमारी कर कई दस्तावेजों और डिजिटल रिकॉर्ड के साथ 3.57 करोड़ रुपये की बेहिसाब भारतीय मुद्रा जब्त की है. ANI के अनुसार प्रवर्तन निदेशालय ने FEMA 1999 के तहत एक जांच शुरू की थी, इस जांच के दौरान जानकारी मिली थी कि कई कंपनियां विदेशियों को ई-वीजा सेवाएं प्रदान करने के नाम पर अवैध रूप से पैसे (फॉरेन रेमिटेंस) मंगवा रही थी. कहा गया था कि इस खेल में ट्रैवल कंपनियों के खिलाफ जांच शुरू की गई थी.

आईएएनएस के अनुसार कई टूर और ट्रैवल कंपनियों के निदेशकों के निवास और कार्यालयों के अलावा, ईडी ने अपने चार्टर्ड एकाउंटेंट के घरों और कार्यालयों में भी खोज की. छापे में ईडी ने कहा कि यह "कई भारतीय दस्तावेजों और डिजिटल रिकॉर्ड के साथ 3.57 करोड़ रुपये की बेहिसाब भारतीय मुद्रा जब्त की गई की." ईडी ने कहा कि FEMA के तहत जांच और ट्रैवल कंपनियों सहित विभिन्न संस्थाओं के खिलाफ जांच शुरू की गई थी, जिसमें विशिष्ट इनपुट के आधार पर विदेशी संस्थाओं को ई-वीजा सेवाएं प्रदान करने के नाम पर अवैध माध्यम से फॉरेन रेमिटेंस प्राप्त करने की अनधिकृत रसीद शामिल थी.


सूरत के डायमंड कारोबारी बेच रहे हैं लाखों के मास्क, नई शादियों में बढ़ रही है मांग

इस मामले में अब तक की गई जांच से पता चला है कि इस तरह की दो कंपनियों ने भारत सरकार की अनुमति के बिना विदेशियों के भारतीय ई-वीजा आवेदनों के प्रसंस्करण के लिए 200 करोड़ रुपये से अधिक की फॉरेन रेमिटेंस प्राप्त की." ईडी के अनुसार जांच से यह भी पता चला कि कुछ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ने इसके प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी और संदिग्ध लेनदेन में शामिल थे. इस मामले में आगे की जांच चल रही है.

कोरोना वायरस महामारी पिछले 100 वर्षों में सबसे खराब स्वास्थ्य और आर्थिक संकट : RBI गवर्नर

First published: 11 July 2020, 15:11 IST
 
अगली कहानी