Home » बिज़नेस » Facebook CEO Mark Zuckerberg could be removed from board of directors by shareholders
 

पद से हटाए जा सकते हैं फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 February 2017, 13:17 IST

दुनिया के सबसे बड़े सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म फेसबुक के मुखिया मार्क जकरबर्ग को उनके पद से हटाया जा सकता है. फेसबुक के शेयरधारकों का एक समूह इस दिशा में कदम उठा सकता है.

वेंचरबीट की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी के निदेशक मंडल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) के पद से मार्क जकरबर्ग को हटाने की मांग कर रहे फेसबुक के शेयरधारकों के एक समूह का दावा है कि एक स्वतंत्र अध्यक्ष "कंपनी के अधिकारियों की देखरेख, कॉरपोरेट गवर्नेंस में सुधार लाने और अधिक जवाबदेह, शेयरधारक समर्थक एजेंडा तय करने में सक्षम होगा."

फेसबुक पर की गई येे 8 गलतियां आपको करवा सकती हैं ब्लॉक

कंज्यूमर वाचडॉग समऑफअस (SumOfUs) के सदस्यों ने यह प्रस्ताव रखते हुए जकरबर्ग से सोशल मीडिया वेबसाइट से बाहर निकलने के बारे में पूछा है.

समऑफअस की कैपिटल मार्केट एडवाइजर लिजा लिंडस्ले ने वेंचरबीट को बताया, "समऑफअस के चार स्वतंत्र सदस्यों के पास रखे शेयरों ने हमें यह प्रस्ताव दाखिल करने के लिए सक्षम किया."

जानिए क्यों फेसबुक ब्लैकमार्केट से खरीद रहा यूजर्स के पासवर्ड

उन्होंने कहा कि करीब 3 लाख 33 हजार लोगों ने फेसबुक से अपनी कॉरपोरेट सिटीजनशिप में सुधार करने के लिए डाली गई याचिका पर हस्ताक्षर किए थे. हालांकि केवल 33,000 में केवल 1,500 ही कंपनी में वाकई शेयरधारक हैं. 

अपने प्रस्ताव में समऑफअस के सदस्यों ने लिखा कि एक स्वतंत्र बोर्ड अध्यक्ष के जरिये शेयरधारकों के मूल्य बढ़ाए जाएंगे. यह बोर्ड अध्यक्ष सीईओ और बोर्ड के बीच सत्ता संतुलन प्रदान कर सकता है.

फेसबुक का मायाजालः फ्री बेसिक्स या बिजनेस टैक्टिक्स

समूह के सदस्यों के मुताबिक, "एक ही व्यक्ति द्वारा सीईओ और बोर्ड अध्यक्ष की दो भूमिकाएं निभाने से कॉरपोरेट गवर्नेंस कमजोर होगी जिससे शेयरधारकों के मूल्य को नुकसान पहुंच सकता है."

इस प्रस्ताव में लिखा है, "2016 में एक नई पूंजी संरचना (कैपिटल स्ट्रक्चर) को मंजूरी देने के फैसले के बाद फेसबुक को स्वतंत्र बोर्ड नेतृत्व की अत्यधिक जरूरत है."

अच्छी जॉब चाहिए तो लिंक्डइन नहीं फेसबुक पर समय बिताइए

इस प्रस्ताव को कंपनी की "भ्रामक खबरों, सेंसरशिप, अभद्र भाषा और फेसबुक के कम्यूनिटी स्टैंडर्ड्स गाइडलाइंस एवं कंटेंट पॉलिसी, जाति के आधार पर ऐड व्यूज टार्गेटिंग, कानून प्रवर्तन और अन्य सरकारी एजेंसियों के साथ सहयोग और फेसबुक के कार्यों द्वारा मानवाधिकारों पर प्रभाव के लिए सार्वजनिक जवाबदेही" को लेकर हो रही आलोचना के बीच एक रचनात्मक कदम के लिए रखा गया है.

First published: 8 February 2017, 13:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी