Home » बिज़नेस » FDI equity inflows fall 7% to $33.5 bn in first nine months of FY19
 

'मोदीराज' में पहली बार FDI में आयी इतनी बड़ी गिरावट, दिल्ली और मुंबई से रूठे निवेशक

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 February 2019, 16:49 IST

मोदी सरकार के लिए एक बुरी खबर है क्योंकि अप्रैल से दिसंबर 2018 तक भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) इक्विटी प्रवाह में सात प्रतिशत की गिरावट आई है. डिपार्टमेंट ऑफ प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड (DPIIT) द्वारा जारी किए गए नवीनतम आंकड़ों से पता चलता है कि भारत अप्रैल से दिसंबर 2018 तक लगभग 33.5 बिलियन डॉलर की एफडीआई आकर्षित करने में कामयाब रहा. 2017 में इसी अवधि में भारत की एफडीआई इक्विटी प्रवाह लगभग 36 डॉलर बिलियन था.

इससे पहले मोदी सरकार ने 23 अगस्त 2018 से तिमाही एफडीआई डेटा प्रकाशित करना बंद कर दिया था. इस साल फरवरी में एफडीआई डेटा प्रकाशित करना फिर से शुरू किया. 2018-19 की तीसरी तिमाही में एफडीआई प्रवाह की जानकारी देने वाली नवीनतम रिलीज से पता चलता है कि 10 में से छह क्षेत्रों में एफडीआई में भारी गिरावट आई है जो सबसे अधिक एफडीआई प्रवाह को आकर्षित करता है.

 अब दिल्ली में 14,842 रुपये प्रति महीने होगी मिनिमम सैलरी, प्रस्ताव हुआ पास

इन क्षेत्रों में कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर, दूरसंचार, निर्माण, बुनियादी ढांचा, फार्मास्यूटिकल्स और बिजली शामिल हैं. दूरसंचार क्षेत्र ने अप्रैल-दिसंबर 2018 में पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में लगभग 3 बिलियन डॉलर की गिरावट देखी.  जिन क्षेत्रों में एफडीआई इक्विटी प्रवाह में वृद्धि हुई है, उनमें सेवा, व्यापार, रसायन और ऑटोमोबाइल शामिल हैं. वित्त वर्ष 2018-19 के पहले नौ महीनों में विदेशी निवेशकों के लिए रसायन क्षेत्र 6.1 बिलियन डॉलर का सबसे बड़ा एफडीआई रहा.

यह पिछले साल की समान अवधि में रासायनिक क्षेत्र में एफडीआई इक्विटी प्रवाह से तीन गुना अधिक था. इस दौरान सेवा क्षेत्र ने 5.9 बिलियन डॉलर 28 प्रतिशत आकर्षित किया. ऑटोमोबाइल सेक्टर ने लगभग एक बिलियन डॉलर का 1.8 बिलियन डॉलर आकर्षित किया. यह पहली बार है कि मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद वित्तीय वर्ष के पहले नौ महीनों में एफडीआई इक्विटी प्रवाह में गिरावट आई है.

अप्रैल-दिसंबर 2015 में एफडीआई इक्विटी प्रवाह पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 40 फीसदी बढ़ गया था. अप्रैल दिसंबर 2016 में, एफडीआई इक्विटी प्रवाह 22 प्रतिशत बढ़ा. अप्रैल-दिसंबर 2018 के दौरान, मॉरीशस से एफडीआई इक्विटी प्रवाह 6 अरब डॉलर तक पहुंच गया. सिंगापुर से एफडीआई इक्विटी प्रवाह 13 बिलियन डॉलर था. नई दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु क्षेत्रों में निवेश में भारी गिरावट आई. इस अवधि के दौरान अहमदाबाद और हैदराबाद क्षेत्रों में एफडीआई इक्विटी प्रवाह में वृद्धि हुई थी.

First published: 20 February 2019, 16:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी