Home » बिज़नेस » financial year 2019 : tax changes from 1 April that will transform your lifestyle
 

1 अप्रैल से शुरू इस वित्त वर्ष-2018-19 में लागू हो जायेंगे ये टैक्स

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 April 2018, 16:51 IST

आज नए वित्तीय वर्ष का दूसरा दिन है. इस साल आपको जहां कुछ वस्तुओं पर ज्यादा खर्च करना पड़ेगा तो कुछ चीजों पर कम. हम आपको बता रहे हैं वित्त वर्ष 2018-19 में टैक्स में क्या-क्या बदलाव होने जा रहे हैं.

स्टॉक मार्केट निवेश पर एलटीसीजी टैक्स का भुगतान

इस वित्त वर्ष से आपको अपने स्टॉक मार्केट निवेश में लॉन्ग टर्म प्रॉफिट पर टैक्स का भुगतान करना पड़ेगा. अब तक आपने अपने मुनाफे पर कोई टैक्स नहीं दिया है, लेकिन अब अगर आप एक वर्ष के लिए शेयर और इक्विटी ओरिएंटेरङ म्यूचुअल फंड लेते हैं, तो इस साल से आपको प्रॉफिट का 10% टैक्स चुकाना पड़ेगा. यह टैक्स आपको 100,000 रुपये से अधिक के प्रॉफिट पर देना होगा.

2. वेतनभोगी 40,000 रुपये की मानक कटौती का आनंद लेंगे

बजट में नौकरी -पेशा और पेंशन भोगियों को 40,000 रुपये की मानक कटौती देने की घोषणा हुई थी. वेतन के तहत कर योग्य राशि को 5,800 रुपये तक घटा दिया जाएगा. हालांकि सैस 1% तक बढ़ जाएगा.

3. 60-प्लस को 50,000 रुपये टैक्स मुक्त ब्याज

सभी श्रेणियों के वरिष्ठ नागरिकों (60 प्लस) को बैंकों, सहकारी बैंकों और डाकघरों में सभी प्रकार की जमा राशियों को अब 50,000 रुपये सालाना कर मुक्त कर दिया जाएगा. इससे पहले, सभी आयकर के लिए यह सीमा 10,000 रुपये थी. अब इसे वरिष्ठ नागरिकों के लिए 40,000 रुपये तक बढ़ा दिया गया है.

60-प्लस के लिए स्वास्थ्य प्रीमियम पर 20,000 की अतिरिक्त कटौती

वरिष्ठ नागरिकों को अब 50,000 रुपये की स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम में कटौती की जाएगी. जो पिछले साल 30,000 रुपये थी.

स्वरोजगार के लिए एनपीएस पर टैक्स छूट

अब तक राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस) में योगदान करने वाले कर्मचारियों को परिपक्वता या खाते के समापन के समय किसी भी टैक्स के बिना कुल कोष का 40% तक वापस लेने की अनुमति थी. अब यह बढ़ा दिया गया है.

First published: 2 April 2018, 16:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी