Home » बिज़नेस » Flashback 2019: GST evasion worth Rs38,896 crore detected during April-October
 

Flashback 2018 : इस साल पकड़ी गई इतने करोड़ की GST चोरी, आंकड़ा हैरान करने वाला

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 December 2018, 22:28 IST

सरकार ने 2018-19 की अप्रैल-अक्टूबर अवधि में 6,585 मामलों में 38,896 करोड़ रुपये की जीएसटी चोरी का पता लगाया है. सरकार ने यह जानकारी शुक्रवार को संसद को दी है. वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि 398 मामलों में 3,028.58 करोड़ रुपये के केंद्रीय उत्पाद शुल्क की चोरी हुई जबकि सात महीने की अवधि के दौरान 3,922 मामलों में 26,108.43 करोड़ रुपये की सेवा कर चोरी का पता चला.

उन्होंने कहा कि 12,711 मामलों में सीमा शुल्क की चोरी का पता चला, जिसमें 6,966.04 करोड़ रुपये के माल और सेवा कर (जीएसटी) की चोरी हुई, जिसमें 6,585 मामलों में 385.97 करोड़ रूपये का खुलासा हुआ है. अप्रैल-अक्टूबर के दौरान अप्रत्यक्ष करों (जीएसटी, सेवा कर, उत्पाद शुल्क और सीमा शुल्क) में चोरी की कुल राशि लगभग 75,000 करोड़ रुपये तक बढ़ गई.

सात महीने की अवधि के दौरान, केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) ने GST में 9,480 करोड़ रुपये, सेवा कर में 3,188 करोड़, सीमा शुल्क में 1,600.84 करोड़ और केंद्रीय उत्पाद शुल्क में 383.5 करोड़ की चोरी बरामद की.

मोदी सरकार द्वारा  लागू किये गए जीएसटी पर कांग्रेस के कई दिग्गज नेता सवाल उठाते रहे हैं. कांग्रेस पार्टी का कहना रहा है कि ये वह जीएसटी नहीं है जिसका सपना यूपीए सरकार ने देखा था. यही कारण है कि कांग्रेस पार्टी 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए अपने घोषणापत्र में एक संशोधित जीएसटी का वादा करने के लिए तैयार है. पार्टी नेताओं का कहना है कि 2019 में केंद्र में अगर कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार आती है तो वह जीएसटी के वर्तमान डिजाइन को बदल देगी.

पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने नई दिल्ली में पार्टी के मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा “जीएसटी के वर्तमान डिजाइन में दोष हैं, और इस हद तक त्रुटिपूर्ण है कि मात्र छेड़छाड़ इसका समाधान नहीं है. 2019 में केंद्र की कांग्रेस सरकार जीएसटी की अगली पीढ़ी लाएगी.”

 एक ताजा बयान में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने सवाल उठाया कि जीएसटी शासन के घोषित लक्ष्यों में बदलाव का कारण क्या था, इसे बार -बार क्यों बदला जा रहा था. उन्होंने कहा "कल तक जीएसटी की सिंगल दर एक मूर्खतापूर्ण विचार था. अब यह सरकार का घोषित लक्ष्य है. कल तक जीएसटी की अधिकतम सीमा को 18 प्रतिशत तक बांधना अव्यावहारिक था. मगर, कल से कांग्रेस पार्टी की मुख्य मांग यानि 18 प्रतिशत कर सीमा सरकार का घोषित लक्ष्य है."
First published: 28 December 2018, 21:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी