Home » बिज़नेस » रुपया गिरा तो विदेशी निवेशकों ने भारतीय बाजार से पांच महीने में निकाले लिए 56 अरब
 

रुपया गिरा तो विदेशी निवेशकों ने भारतीय बाजार से पांच महीने में निकाल लिए 56 अरब रुपये

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 September 2018, 12:44 IST

विदेशी निवेशकों ने पिछले पांच महीनों के दौरान रूपये में गिरावट और कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी के बाद भारतीय पूंजी बाजारों से 56 अरब रुपये निकाल लिए. पिछले महीने विदेशी निवेशकों ने 23 अरब रुपये निकाले. इससे पहले अप्रैल-जून के दौरान विदेशी निवेशकों ने 610 अरब रुपये से अधिक निकाले थे.

नवीनतम डिपॉजिटरी डेटा के मुताबिक विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने 3-7 सितंबर के दौरान इक्विटी से 10.21 अरब रुपये और ऋण बाजार से 46.28 अरब रुपये की शुद्ध राशि वापस ले ली, जो कुल मिलाकर 56.4 9 अरब रुपये हो गई.

बाजार विश्लेषकों ने रूपये में गिरावट के लिए कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि, बाजार नियामक सेबी के एफपीआई सर्कुलर और वैश्विक बाजारों में कमजोरी को जिम्मेदार ठहराया है. विदेशी निवेशकों लॉबी समूह एसेट मैनेजर गोलमेज ऑफ इंडिया (एएमआरआई) ने पिछले हफ्ते कहा था कि यदि सेबी ने केवाईसी और फायदेमंद स्वामित्व पर प्रस्तावित मानदंड लागू किए हैं तो 75 अरब डॉलर का प्रवाह होगा.

हालांकि बाजार नियामक ने चिंताओं को दूर कर दावे को अपमानजनक और अत्यधिक गैर जिम्मेदार बताया. मॉर्निंगस्टार के सीनियर रिसर्च एनालिस्ट हिमांशु श्रीवास्तव के अनुसार, फिलहाल एफपीआई के बीच अनिश्चितता और सावधानी बरतनी है. कुल मिलाकर इस साल तक एफपीआई ने इक्विटी से 34 अरब रुपये और ऋण बाजारों से 426 अरब रुपये से अधिक की कमाई की है.

ये भी पढ़ें : सोमवार को रिटायर हो रहे हैं अलीबाबा के को-फाउंडर और चीन के तीसरे सबसे अमीर व्यक्ति

First published: 9 September 2018, 12:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी