Home » बिज़नेस » Former PM Manmohan Singh calls DA cuts of government employees unnecessary
 

सरकारी कर्मचारियों की DA कटौती को पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने बताया अनावश्यक कदम

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 April 2020, 12:22 IST

Coronavirus Lockdown: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते (DA) में कटौती करने के केंद्र के फैसले को अनावश्यक कदम बताया है. पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का कहना है कि ऐसे कठिन समय में केंद्रीय कर्मचारियों और सैनिकों पर ऐसा फैसला थोपना गलत है. कांग्रेस ने शनिवार सुबह अपने वरिष्ठ नेताओं के विचारों को साझा करते हुए एक वीडियो जारी किया है, जो राष्ट्रीय मुद्दों पर विचार-विमर्श के लिए बनाई गई एक आंतरिक सलाहकार समिति का हिस्सा हैं.

वीडियो में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का कहना है "हमें उन लोगों की तरफ होना चाहिए, जिनका महंगाई भत्ता कट चुका है. उन्होंने कहा इस समय यह जरूरी नहीं है कि सरकारी कर्मचारियों और सशस्त्र बलों के मामले में कठोरता दिखाई जाये." मनमोहन सिंह की टिप्पणियां इसलिए भी महत्वपूर्ण हैं क्योंकि कांग्रेस द्वारा इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार को एक औपचारिक सुझाव प्रस्तुत करने की संभावना है.


 

कांग्रेस का कहना है कि इस कदम से मध्यम वर्ग को भी तकलीफ होगी क्योंकि केंद्र सरकार ने इसके बजाय सेंट्रल विस्टा और बुलेट ट्रेन जैसी परियोजनाओं पर रोक लगाने की घोषणा नहीं की है. राहुल गांधी ने परामर्श बैठक के दौरान कहा कि सरकार ने सेंट्रल विस्टा के रूप में फालतू के खर्चों को जारी रखा है, लेकिन गरीबों को पैसा नहीं दिया है.

Lockdown में गृह मंत्रालय ने दी बड़ी राहत- आज से होगी इन दुकानों को खोलने की अनुमति

शुक्रवार को गांधी की टिप्पणी पर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कांग्रेस के पास बैंकरप्ट लीडरशिप है, जो रोज सरकार का विरोध करता है. कांग्रेस को देश की नब्ज और मिजाज को समझना चाहिए''. केंद्र सरकार ने 50 लाख कर्मचारियों और 61 लाख पेंशन भोगियों के महंगाई भत्ते पर रोक लगा दी है.

कोरोना वायरस: इस IT कंपनी के 9000 कमर्चारियों ने EPF खातों से निकाले 43 करोड़

First published: 25 April 2020, 12:12 IST
 
अगली कहानी