Home » बिज़नेस » Fugitive Mehul Choksi says he took Antigua citizenship last year to expand business
 

भगोड़ा मेहुल चोकसी बोला- एंटीगुआ की नागरिकता कारोबार बढ़ाने के लिए ली थी

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 July 2018, 13:41 IST

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के 13,600 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी मामले में भगोड़े मेहुल चोकसी ने भारतीय जांच एजेंसियों द्वारा लगाए गए आरोपों में किसी भी सच्चाई से इंकार कर दिया है. चोकसी ने दावा किया कि उन्होंने पिछले साल एंटीगुआ नागरिकता अपने व्यापार का विस्तार करने के लिए ली थी. एंटीगुआ के एक अख़बार एंटीगुआ ऑब्जर्वर में चोकसी के वकील डेविड डोरसेट ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि भारत सरकार द्वारा लगाए गए आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है.

चोकसी ने कहा है कि वह अपने व्यापार का विस्तार करना चाहता था क्योंकि कैरीबियाई राष्ट्र के पासपोर्ट 132 देशों को वीज़ा मुक्त यात्रा प्रदान करता है. चोकसी कथित तौर पर बैंकिंग धोखाधड़ी मामले में अपने भतीजे नीरव मोदी के साझेदार थे. चोकसी के वकील ने कहा कि "मैं यह कह सकता हूं कि मैंने निवेश कार्यक्रम द्वारा नागरिकता के तहत एंटीगुआ और बारबूडा के नागरिक के रूप में पंजीकृत होने के लिए कानूनी रूप से आवेदन किया है.

 

इस बीच भारतीय एजेंसियों को पता था कि चोकसी एंटीगुआ में देखे गए थे लेकिन अब इस देश को भी छोड़ दिया है. इस साल जनवरी में चोकसी को नागरिकता मिलने के बाद आधिकारिक तौर एक बयान जारी किया था. इसके बाद सीबीआई ने चोकसी के ठिकाने की जानकारी देने के लिए एंटीगुआ में संबंधित अधिकारियों को लिखा था.

14 मई को दायर चार्जशीट में सीबीआई ने आरोप लगाया था कि नीरव मोदी ने अपनी कंपनियों के माध्यम से मुंबई में पीएनबी की ब्रैडी हाउस शाखा से जारी धोखाधड़ी वाले एलओयू का उपयोग करके 6,498.20 करोड़ रुपये की धनराशि बैंकों से ली.

ये भी पढ़ें : मेहुल चोकसी अमेरिका से एंटीगुआ भागा, हासिल किया लोकल पासपोर्ट

First published: 27 July 2018, 13:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी